खैरागढ़। लूटपाट की वारदात को अंजाम देने वाले पांच युवकों को पुलिस ने धरदबोचा है। गुरुवार को नगर में आरोपितों का जुलुस निकालकर न्यायालय में पेश किया गया, जहां से सभी को जेल भेज दिया गया है। लगातार तीन दिन की मशक्कत के बाद एसडीओपी दिनेश सिन्हा की अगुवाई में पांच आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार करने में सफलता पाई है। महज शराब खरीदने के लिए पैसे कम पड़ने के चलते आरोपितों ने मार्ग में लूटपाट की घटना शुरू की। माह भर से जारी लूटपाट की घटना में कई प्रार्थी पुलिस और कचहरी के चक्कर में सामने नहीं आए। लेकिन 16 मई को ब्लाक के खैरबना निवासी युवक के साथ लूटपाट के बाद मारपीट में गंभीर रूप से घायल होने की खबर का प्रकाशन होते ही पुलिस अफसर हरकत में आए। एसडीओपी दिनेश सिन्हा ने खुद मामले को संज्ञान में लिया और खैरागढ़ सहित छुईखदान थाने से इसकी जांच खुद शुरू की।

सीसीटीवी फुटेज में खुला राजः सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस ने युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। पूछताछ में आरोपित ने अपराध स्वीकार किया। घटना का मास्टरमांइड पुराना आदतन अपराधी है। पुलिस ने इसमें मुख्य आरोपित 21 वर्षीय घासीदास टंडन, 18 वर्षीय अमित कोसरे, मोंटू कोसरे तीनों आरोपित खैरागढ़ और 20 वर्षीय अनिल कोसरे व 21 वर्षीय अन्नाू उर्फ अनवर टंडन डुमरडीह थाना घुमका को गिरफ्तार किया है। आरोपितों ने स्वीकारा कि शराब पीने के लिए पैसा कम पड़ने के चलते ऐसा प्लान बनाकर सभी अंधेरे मार्ग पर अकेले आने-जाने वाले बाइक सवारों पर हमला कर पैसों की मांग करते थे। पैसे नहीं देने पर मारपीट और लूट करते थे। पुलिस ने आरोपितों के पास से नकद, मोबाइल समेत दो मोटर साइकिल जब्त किया है।

पीड़ितों ने की पहचानः आरोपितों की धरपकड़ के लिए पुलिस ने आसपास के इलाकों के सीसीटीवी फुटेज को खंगाला। छुईखदान के एक पेट्रोल पंप में कुछ संदिग्ध बाइक में पेट्रोल भरवाते मिले। घटनाओ से पीड़ित लोगों से इनकी पहचान कराई गई। जिसके बाद लूटे गए मोबाइल के आरोपितों में से घासीदास कम कीमत में मोबाइल बेचने की सूचना पर उसे पकड़कर पूछताछ शुरू की गई। पहले भी कई अपराधों में शामिल घासीदास के पकड़ाते ही लूटपाट की घटना की पूरी कलई खुल गई। गुरुवार को पुलिस ने पांचों आरोपितों का जुलुस निकालकर न्यायाल में पेश किया, जहां से सभी को जेल भेज दिया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close