राजनांदगांव। शहर के बड़े नाले-नालियों का हाल बेहाल है। गंदगी से नाले चोक पड़े हुए हैं, जो बरसात में शहरवासियों के लिए मुसीबत बनेंगे। नगर निगम ने बड़े नाले-नालियों की सफाई नहीं करा पाई है। यहीं नहीं कुछ नाले क्षतिग्रस्त पड़े हुए हैं। कई जगह नालों के पानी का निकासी पूरी तरस से बंद पड़ा हुआ है। यदि बरसात के पहले नाले-नालियों की सफाई नहीं हुई तो गंदगी सड़कों से

घर तक पहुंचेगा।

बारिश में शहर की कई सड़कों व गलियों में जलभराव हो जाता है। यहीं निचली बस्तियों में बरसात का पानी भी घर में घुस जाता है। जिसके चलते लोगों को काफी परेशानियों का सामना

करना पड़ता है। शहर की नालियों की सफाई की स्थिति बदतर है। राजीव नगर, बैला पसरा व नंदई स्थित नाले का हालात भयावह है। नाला पूरी तरह कचरों से अटा पड़ा

हुआ है।

कई महीनों से नहीं हुई है सफाईः शहर के भीतर छोटी नालियों की हालत भी काफी खराब है। कई महीनों से नालियों की सफाई नहीं हो पाई है। नालियों में सिल्क जमा हुआ है। इसके बाद भी निगम का इस ओर कोई ध्यान नहीं है। शहर के सदर बाजार, हाट बाजार, ओसवाल लाइन में बरसात के बाद नाली की गंदगी सड़क पर तैरने लगती है। जिसके चलते लोगों को आवागमन में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। तेज बारिश के बाद नाली की गंदगी सड़कों में बहने लगता है।

शहर की ये नाले-नालियां बनेगी आफत

नगर निगम हर वर्ष बरसात के पहले नालियों की सफाई करता है। लेकिन अब तक नालियों की सफाई नहीं हो पाई है। बारिश के दिनों में खासकर बड़े नालों के साथ छोटी नालियों लोगों को झटका देती है। गौरव पथ की नालियां से होकर पूरी गंदगी इसी नाली में जाती है, जिसके कारण बरसात के दिनों में जिला अस्पताल के दूसरे हिस्से वाले मेन गेट के सामने ही नालियां बजबजा जाती है। नाली का पानी सड़कों तक बहता है। इससे आवाजाही भी प्रभावित रहती है। राजीव नगर का नाला है, जहां भी बारिश के दिनों में नाले का पानी सड़क तक आ जाता है। बारिश के दिनों में शहर के शांति नगर, चिखली, शंकरपुर, जीइ रोड, ममता नगर, प्रभात नगर, केशर नगर, स्टेशनपारा, लखोली, नंदई, बसंतपुर, राजीव नगर,बजरंगपुर नवागांव, नया व पुराना ढाबा, मोतीपुर,, नारकन्हैया नाला, गुरुद्वारा के पीछे, भरकापारा तालाब पार नाला, मिरानी पुलिया नाला, पेंड्री नाला, चिखली स्थित नाला गंदगी से अटा हुआ है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local