राजनांदगांव । प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए किसान अब 15 जुलाई तक बीमा करा सकते हैं। पहले यह सीमा सात जुलाई तक ही थी। खरीफ वर्ष 2022 के तहत फसल को प्रतिकूल मौसम सूखा, बाढ़, कीट व्याधि, ओलावृष्टि आदि प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले नुकसान में वित्तीय सहायता के लिए विगत माह से फसल बीमा का कार्य प्रारंभ हो चुका है। फसल बीमा कराने की अंतिम तिथि 15 जुलाई निर्धारित की गई है। जिसमें अब मात्र 10 ही दिवस शेष है। जिले के लिए मुख्य फसल धान सिंचित एवं धान असिंचित तथा अन्य फसल सोयाबीन एवं अरहर फसल का बीमा करा सकते हैं। योजनांतर्गत बीमा इकाई ग्राम निर्धारित है।

बीमा में शामिल किये जाने वाले कृषक : प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनांतर्गत ऋणी एवं अऋणी कृषक जो भू-धारक व बटाईदार हो सम्मिलित हो सकते हैं। अधिसूचित फसल उगाने वाले सभी गैर ऋणी कृषक जो योजना में सम्मिलित होने के इच्छुक हों वे बुआई पुष्टि प्रमाण पत्र सत्यापित कर एवं अन्य दस्तावेज प्रस्तुत कर योजना में सम्मिलित हो सकते हैं।

बीमा के लिए प्रीमियम राशि दरः योजना के तहत खरीफ फसलों के लिये दो प्रतिशत कृषक प्रीमियम राशि निर्धारित है, जिसमे कृषक द्वारा देय प्रीमियम राशि 1100 रुपये धान सिंचित एवं 840 रुपये धान असिंचित के लिए प्रति हेक्टेयर की दर से होगा। इसी प्रकार कृषक द्वारा सोयाबीन फसल हेतु 924 रुपये, अरहर फसल हेतु 666 रुपये प्रति हेक्टेयर की दर से देय होगा।

बीमा के लिये आवश्यक दस्तावेजःऋणी कृषकों का बीमा संबंधित बैंक, सहकारी समिति द्वारा अनिवार्य रूप से किया जाएगा। उन्हें केवल घोषणा एवं बुवाई प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा। अऋणी कृषकों को बैंक, सहकारी समिति एवं लोक सेवा केंद्र में बीमा प्रस्ताव फार्म, नवीनतम आधारकार्ड, बैंक पासबुक, भू-स्वामित्व साक्ष्य बी-1 पांचसाला, किरायदार, साझेदार कृषक का दस्तावेज, बुवाई प्रमाण पत्र एवं घोषणा पत्र प्रदाय कर बीमा करा सकते हैं।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close