राजनांदगांव। जैन बगीचे में चल रहे नियमित प्रवचन में जैन साध्वी प्रियंकरा श्रीजी ने कहा कि हमें सुगंध पसंद है और दुर्गंध आती है तो हम नाक-भौं सिकोड़ने लगते हैं। जो अनुकूल है उसे हम ग्रहण करते हैं। उसमें राग होता है और जो प्रतिकूल है वह द्वेष है। हमें दोनों से अपने आपको दूर रखना होगा। हमारा दोनों से जुड़ाव नहीं होना चाहिए।

गाली घी की थाली होती है। उन्होंने कहा कि गाली हमने सुनी और उसका कोई रिएक्शन नहीं दिया तो यह गाली घी की थाली बन जाएगी। यह गाली हमारे लिए उपहार के समान होगी। उन्होंने कहा कि अपनी जबान मिश्री की डली बनाएं और कभी भी कटु शब्द ना बोले क्योंकि तलवार से बना घाव भर सकता है किंतु कटु जबान से हुआ घाव कभी नहीं भरता है। उन्होंने कहा कि मुख्य रंग तो पांच है बाकी शेष जितने भी रंग दिखते हैं। वह इन पांच रंगों से मिलकर ही बने होते हैं। कौन सा रंग हमें अच्छा लगता है और कौन सा नहीं यह हमारे उपर है। लेकिन हम राग द्वेष के इस संसार में हम फंसते ही चले जाते हैं। राग-द्वेष के संसार से दूर रहना है और उसकी आसक्ति को तोड़ना है और अपनी चेतना को संभालना है।

संयम यात्रा धर्म जीवन की शुरुआत

जैन मुनि संवेग रतन सागर ने कहा कि संयम जीवन , धर्ममय जीवन की शुरुआत है। उन्होंने कहा कि सुख सभी को चाहिए। लेकिन उस मार्ग पर जाने वाले रास्ते पर हम नहीं चलते। उन्होंने कहा कि मानव मात्र का जीवन ऐसा है जो एक ही गड्ढे में बार-बार गिरता है। वह सुख प्राप्त करने के लिए पाप के मार्ग को चुनता है और उस गड्ढे में वह गिरता ही जाता है। संयम का मार्ग थोड़ा कठिन तो है, लेकिन सुरक्षित है। इसके लिए हमें हमारी मान्यताओं को त्यागना पड़ता है। हमें अपने स्वयं के विरुद्ध युद्ध लड़ना पड़ता है। उन्होंने कहा कि जब तक जीवन में पापों का विराम नहीं होगा तब तक दुख का निवारण नहीं होगा। दुख यदि फल है तो पाप उसका बीज। उन्होंने कहा कि बीज यदि कड़वा हो तो फल भी कड़वा होता है और मीठा हो तो उसका फल भी मीठा होता है। लेकिन यहां इसके ठीक उल्टा होता है। दुख कड़वा बीज होता है और उसका फल पाप हमे मीठा लगता है। वास्तविक स्थिति में वह मीठा नहीं होता है। जीव जितनी बार पाप करता है वह उसमें धंसता ही चला जाता है। उसे पाप अच्छा लगता है। वह धर्म कर अनुकूल परिस्थितियों का त्याग नहीं करना चाहता अपनी मान्यताओं को नहीं छोड़ना चाहता।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local