राजनांदगांव। तीन सप्ताह के इंतजार के बाद शनिवार रात को आसमान जोरदार बरसा। शाम से आसमान में छाए घने बादल काफी समय तक घुमड़ता रहा। बादल गरज-गरज कर लौट जा रहा था। लगभग पौने नौ बजे आखिरकार तेज बारिश के साथ मानसून एक बार फिर लय में लौटता दिखा। मौसम विभाग ने रविवार को भी अच्छी बारिश की संभावना जताई है।

सावन का महीना अब मात्र पांच दिन ही बाकी रह गया है। शुरुआती दिनों में अपेक्षा के अनुरूप बारिश हुई लेकिन उसके बाद से मानसून ब्रेक रहा। इस दौरान बीच-बीच में हल्की-फुुल्की बारिश जरूर होती रही, लेकिन ज्यादातर समय आसमान साफ रहने से तेज धूप ने परेशान किया। उमस वाली गर्मी पड़ती रही।

मौसम विभाग के अनुसार मानसून द्रोणिका मध्य समुद्र तल पर जैसलमेर, कोटा, सागर, पेंड्रा रोड, बालासोर, और उसके बाद दक्षिण-पूर्व की ओर पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी तक स्थित है। एक ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी और उसके आसपास 5.8 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है। इसके प्रभाव से एक निम्न दाब का क्षेत्र इसी क्षेत्र में बनने की प्रबल संभावना है। मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि इसके प्रभाव से प्रदेश में रविवार को अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने अथवा गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है। कुछ स्थानों पर भारी तथा एक-दो स्थलों पर अति भारी वर्षा होने की संभावना है। चंद्रा के अनुसार भारी वर्षा का क्षेत्र मुख्यतः दक्षिण छत्तीसगढ़ रहने की संभावना है।

प्रदेश में दूसरा सबसे गर्म जिलाः शनिवार को अधिकतम तापमान 33.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पिछले तीन दिनों से दिन में इतनी ही गर्मी पड़ रही है। शनिवार को यह प्रदेश का दूसरा सबसे अधिक तापमान रहा। तापमान सामान्य से चार डिग्री ज्यादा रहा। सबसे गर्म जिला बिलासपुर रहा जहां दिन का तापमान 34.4 डिग्री रहा। रायपुर में 32.3 व दुर्ग का अधिकतम तापमान 31.8 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close