राजनांदगांव। नईदुनिया प्रतिनिधि

बारिश नहीं होने के बाद किसानों को फसल बर्बाद होने का डर सता रहा है। रविवार को कृषि गंज मंडी में आयोजित बैठक में किसानों ने जिले को सूखाग्रस्त करने एकमत हुए। बैठक में किसानों की चिंता साफ झलक रही थी। किसानों ने इस बार खेती में बड़ा दांव खेला है। लेकिन बारिश नहीं होने के कारण किसानों का दांव फेल होता नजर आ रहा है।

0 तीन ब्लॉक पूरी तरह से सूखा

जिले के तीन ब्लॉक राजनांदगांव, डोंगरगढ़ और खैरागढ़ में मानसून पूरी तरह से रूठ गया है। सावन में भी इन ब्लॉकों में पर्याप्त बारिश नहीं हुई। जिसके कारण इन क्षेत्रों में बियासी पूरी तरह से पिछड़ गई है। बारिश नहीं होने के कारण किसानों की चिंता बढ़ गई है। किसानों ने बैंकों से कर्ज लेकर फसल लगाए हैं। लेकिन बारिश नहीं होने के कारण किसान मायूस हैं।

0 ऋण माफी तिहार लगाई थी गुहार

ऑडिटोरियम में जिला प्रशासन द्वारा आयोजित ऋण माफी तिहार में किसानों ने ब्लॉक को सूखाग्रस्त करने की गुहार लगाई थी। रविवार को जिला किसान संघ की बैठक में सबसे पहले सूखा ग्रस्त का मामला उठा। किसानों ने एक स्वर में जिले को सूखा ग्रस्त करने की मांग की। बारिश नहीं होने के कारण खरीफ फसलों को नुकसान हो रहा है।

0 कर्ज माफी का नहीं मिला फायदा

बैठक में जिले भर के किसान शामिल हुए। ऐसे कई किसान हैं जिसे अब तक कर्ज माफी का लाभ नहीं मिल पाया है। कर्ज माफी को लेकर किसान अफसरों के चक्कर लगा रहे हैं। इसके बाद भी अब तक इस ओर कोई कार्रवाई नहीं की गई है। किसानों ने कहा कि चुनाव के समय सरकार ने किसानों से कई वादें की थी। जिसमें से कर्ज माफी एक वादा था। कर्ज माफी का लाभ अब भी जिले के कई किसानों को नहीं मिल पाया है। बैठक में किसानों ने सूखे की हालात को देखते हुए प्रशासन से पानी देने की मांग की।

ग्रोथ पर पड़ रहा असर

बारिश नहीं होने के कारण कुछ ब्लॉकों में चिंताजनक स्थिति है। बारिश के अभाव में फसल की ग्रोथ पर असर पड़ रहा है। फसलों को कीट प्रकोप से बचाने किसानों को समय-समय में जानकारी दी जा रही है।

-अश्वनी बंजारा, उप संचालक कृषि