राजनांदगांव। नईदुनिया प्रतिनिधि

जिले के 810 ग्राम पंचायतों के 10935 वार्डों का आरक्षण रविवार को शहर के ठाकुर प्यारेलाल स्कूल परिसर में किया गया। आरक्षण के बाद पंचायतों के वार्डों की तस्वीर साफ हो गई। इस बार पंचायतों में महिलाओं की ही चलेगी, क्योंकि आरक्षण में लगभग 57 फीसद वार्ड महिलाओं के लिए आरक्षित हुआ है। यानी यही महिलाएं पंचायतों के सरपंचों का फैसला करेंगी। ज्ञात हो कि पंचायत चुनाव को भी राज्य सरकार ने अप्रत्यक्ष कराने की बात कही है। जिसमें पंच ही सरपंचों का चुनाव कर पाएंगे। आरक्षण की कार्रवाई में राजनांदगांव ब्लॉक के चार पंचायतों का आरक्षण रोका गया है। क्योंकि इन चारों पंचायतों का कार्यकाल पूरा नहीं हुआ है। पिछले साल जून 2018 में ही यहां चुनाव हुआ था। बाकि पंचायतों के वार्डों का आरक्षण होने के बाद गांवों में राजनीति करने वाले नेताओं की सरगर्मी बढ़ गयी है।

ऐसे हुआ वार्डों का आरक्षण

नए परिसीमन के बाद जिले में ग्राम पंचायतों की संख्या 814 हो गयी है। रविवार को इन 814 में से 810 पंचायतों के 10935 वार्डों का आरक्षण हुआ। जिसमें 683 वार्ड अनुसूचित जाति महिला, 321 वार्ड अनुसूचित जाति मुक्त, 1926 वार्ड अनुसूचित जनजाति महिला और 1534 वार्ड अनुसूचित जनजाति मुक्त हुआ है। इसी तरह 1155 वार्ड अन्य पिछड़ा वर्ग महिला के लिए आरक्षति हुआ है, वहीं 759 वार्ड अन्य पिछड़ा वर्ग मुक्त है। सामान्य महिला के लिए 2486 वार्ड और 2071 वार्ड अनारक्षति मुक्त हुआ है। सभी आंकड़ों में महिलाओं को ज्यादा वार्ड मिला है। अब सरपंच पदों के आरक्षण का इंतजार है। जो रायपुर राजधानी में 17 नवंबर को था, लेकिन किसी कारणवश आरक्षण की कार्रवाई स्थगित हो गयी है।

इन पंचायतों का आरक्षण नहीं हुआ

पंचायत चुनाव 2019-20 में राजनांदगांव ब्लॉक के चार पंचायत पनेका, बांकल, फरहद और गठुला में चुनाव नहीं होगा। क्योंकि इन चारों पंचायतों का कार्याकाल पूरा नहीं हुआ है। बीते साल जून 2018 में ही इन पंचायतों में चुनाव हुआ था। इस कारण आरक्षण की कार्रवाई में इन पंचायतों के आरक्षण को रोका गया है। बाकि राजनांदगांव ब्लॉक के 108 पंचायतों के 1617 वार्डों का आरक्षण कलेक्टर जेपी मौर्य की मौजूदगी में हुआ। इस दौरान अपर कलेक्टर ओंकार यदु, जिला पंचायत सीईओ तनुजा सलाम व अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Posted By: Nai Dunia News Network