राजनांदगांव (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में खाद की समस्या को लेकर किसानों की परेशानी बढ़ गई है। अन्नादाता हर दिन खाद के लिए सोसायटियों का चक्कर लगा रहे हैं। इसके बाद भी किसानों को खाद नहीं मिल रहा है। सोसायटियों में खाद नहीं मिलने से सोमवार को अंबागढ़ चौकी ब्लाक के कौड़ीकसा और मानपुर ब्लाक के खरदी गांव के किसानों ने स्टेट हाइवे की सड़क पर चक्काजाम कर खाद के लिए प्रदर्शन किया। कौड़ीकसा में किसान संघर्ष मोर्चा के अन्नादाताओं ने कहा कि सोसायटी में ढाई हजार किसान खाद लेने के लिए कतार में है, लेकिन सोसायटी में पांच सौ बोरी से ज्यादा खाद नहीं था।

जिसके कारण आक्रोशित किसानों ने स्टेट हाइवे में चक्काजाम किया। महिलाएं भी सड़क पर चटाई लगाकर प्रदर्शन में शामिल हुई। किसानों ने तीन दिनों के भीतर खाद दिलाने की मांग की है। बता दें कि खाद संकट को लेकर इससे पहले भी राजनांदगांव ब्लाक के सुकुलदैहान में किसानों ने सोसायटी का घेराव कर हंगामा किया था। लगातार बढ़ते विरोध को लेकर प्रशासन सभी सोसायटियों में खाद का भंडारण कराकर वितरण करने के लिए निर्देश जारी किया है।

तीन दिनों का दिया अल्टीमेटम

किसान संघर्ष मोर्चा कौड़ीकसा के बैनर तले सड़क पर उतरे किसानों ने तीन दिन का अल्टीमेटम दिया है। तीन दिनों में अगर खाद की समस्या दूर नहीं की गई तो किसानों ने उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी है। किसानों के छह सूत्रीय मांग पर कौड़ीकसा के समिति प्रबंधक ने लिखित में दिया है। इसके बाद ही किसानों ने चक्काजाम खत्म किया। इधर मानपुर ब्लाक के ग्राम खरदी सोसायटी के आठ गांव के किसानों ने भी प्रशासन को मोहलत देकर प्रदर्शन खत्म किया है।

रात से ही कतार में थे किसान

खाद लेने के लिए कौड़ीकसा और खरदी सोसायटी में किसानों ने बीते रविवार की रात से ही लाइन लगाई थी। सोमवार सुबह सोसायटी खुलते ही किसान खाद लेने पहुंचे। लेकिन उन्हें खाद संकट बताकर बेरंग लौटाया गया। पर्याप्त खाद नहीं होने से नाराज किसानों ने सड़क पर बैठकर प्रदर्शन किया। मुख्यमंत्री और क्षेत्रीय विधायक के खिलाफ भी नारेबाजी की।

डीएपी खाद के लिए मारामारी

जिले में डीएपी खाद के लिए मारामारी मची हुई है। खेती का सीजन शुरू होने के कारण किसान डीएपी खाद लेने हर रोज सोसायटी पहुंच रहे हैं। लेकिन किसानों को सोसायटियों में खाद नहीं होने का हवाला देकर लौटाया जा रहा है। इसको लेकर किसान नाराज है। आक्रोशित किसान पहले भी खाद की समस्या को दूर करने के लिए प्रशासन से मांग कर चुके हैं। इसके बाद भी खाद की समस्या दूर नहीं हुई है।

बाजार में मची लूट से भी आक्रोश

सोसायटियों में जहां यूरिया व डीएपी खाद का संकट बताया जा रहा है, वहीं बाजार में सभी रासायनिक खाद आसानी से मिल रहा है। सोसायटियों में संकट को लेकर मार्केट में व्यापारियों ने खाद की कीमतें बढ़ा दी है। इसको लेकर भी किसानों में आक्रोश है। जिले में खाद की कालाबाजारी को लेकर भी शिकायत सामने आ रही है। वहीं नकली खाद को लेकर भी किसान बाजार से खाद खरीदी करने से कतरा रहे हैं। इसके बाद भी व्यापारियों की मनमानी बढ़ी गई है। महंगे दाम पर बिक रहे खाद की कीमतों को निर्धारित नहीं करने पर किसान आक्रोशित है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close