खैरागढ़। नईदुनिया न्यूज

एलबी शिक्षक से इस्तीफा देकर बिलाईगढ़ से विधायक बने चंद्रदेव राय ने शिक्षक संगठनों के प्रांताध्यक्षो से मुलाकात की। व्यक्तिगत रूप से विधायक ने सभी प्रांताध्यक्षों से संपर्क किया और उन्हें राजधानी आमंत्रित किया। जहां छत्तीसगढ़ व्याख्याता पंचायत संघ के प्रांताध्यक्ष कमलेश्वर सिंह ने कांग्रेस के जनघोषणा पत्र मे उल्लेखित बातों पर ध्यान दिलाते हुए कहा कि दो साल की सेवावधि पूरी कर चुके शिक्षक पंचायत ननि को स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन करने, 1998 से नियुक्त सहायक शिक्षक, शिक्षक व्याख्याता एलबी जिन्हें अभी तक पदोन्नति नहीं मिली है, उन्हें प्रथम और द्वितीय उच्चतर वेतनमान का लाभ देने, आठ साल की सेवावधि पूरी कर संविलियन पाने वाले सहायक शिक्षक, शिक्षक व्याख्याता एलबी को प्रथम नियुक्ति तिथि से वरिष्ठता की गणना करते हुए प्रधान पाठक और प्राचार्य के पद पर पदोन्नति सहित एलबी शब्द को विलोपित किया जाए, सेवाकाल के दौरान मृत शिक्षकों के आश्रितों को भृत्य, लिपिक, सहायक शिक्षक के पद पर अनुकंपा नियुक्ति दी जाए।

भेदभाव होने का लगाया आरोप

शिक्षक एलबी संवर्ग के लिए क्रमोन्नति, पदोन्नति सहित अन्य सुविधाएं प्रदान करने स्कूल शिक्षा विभाग के भर्ती व पदोन्नति नियम 2018 का राजपत्र में प्रकाशन किया जाए। क्योंकि अभी भी शिक्षा विभाग के अधिकारी संविलियन बाद भी शिक्षक संवर्ग के साथ संस्था में भेदभाव की नीति अपना कनिष्ठ वरिष्ठ कर रहे है। कमलेश्वर सिंह की बात पर विधायक चंद्रदेव राय ने भरोसा दिलाते हुए कहा कि संविलियन बाद शिक्षक व्याख्याता को प्राचार्य, प्रधानपाठक पद पर पदोन्नति को लेकर कार्रवाई जारी है। जल्द ही उन्हें बीआरसी, बीईओ का पद पूरे सम्मान और हक के साथ पदोन्नति के रूप मे मिलेगा। राय ने कहा किसंस्था मे भेदभाव को लेकर विधिवत शिकायत मिलने पर इसकी जानकारी सीएम को देकर कारवाई कराई जाएगी। इस अवसर पर प्रदेश में शिक्षाकर्मियो की हितों को लेकर आवाज बुलंद करने वाले तमाम संघ के प्रांताध्यक्ष मौजूद थे।