राजनांदगांव(नईदुनिया प्रतिनिधि)। त्योहारी मौसम ने ट्रेनों में भीड़ बढ़ा दी है। ट्रेनों में यात्रियों को कंफर्म सीट नहीं मिल रही है। त्योहारी सीजन में यात्रियों को कंफर्म सीट दिलाने रेलवे ने प्रयास शुरू कर दिया है। 10 से 12 एक्सप्रेस ट्रेनों में अतिरिक्त कोच लगाकर दौड़ाया जाएगा ताकि यात्री कंफर्म सीट के साथ समय पर अपने गंतव्य तक पहुंच सके।

रेलवे के अधिकारी जिन ट्रेनों में अतिरिक्त कोच लगाना है उन ट्रेनों की सूची तैयार करने में जुट गए है। वहीं कुछ ट्रेनों के परिचालन को भी आगे बढ़ा दिया गया है। ट्रेनों में अतिरिक्त कोच लगने के बाद यात्रियों को काफी राहत मिलेगी। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे से चलने वाली अमृतसर-कोरबा स्पेशल गाड़ी में एक अतिरिक्त सामान्य कोच की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। वहीं हावड़ा-मुंबई-हावड़ा मेल एक्सप्रेस स्पेशल ट्रेन के परिचालन में विस्तार किया गया। यह स्पेशल ट्रेन की सुविधा 29 दिसंबर तक बढ़ा दी गई है।

इन ट्रेनों में टिकट की मारामारी

त्योहारी मौसम शुरू होते ही ट्रेनों में यात्रियों की संख्या बढ़ गई है। त्योहारी सीजन में सफर करने वाले लोग टिकट काउंटर से रिजर्वेशन करवा रहे है। यात्रियों को कंफर्म बर्थ नहीं मिल रही है। वेटिंग को कंफर्म कराने यात्री स्टेशन का चक्कर लगा रहे हैं। हावड़ा-अहमदाबाद, जोधपु-बीकानेर, बिलासपुर-भरत की कोठी, बिलासपुर-गोडवाना, मुंबई मेल में सफर करने के लिए यात्रियों को 20 से 22 दिन पहले टिकट बुक करानी पड़ रही है। इसके बाद भी यात्रियों को कंफर्म टिकट नहीं मिल रही है। हावड़ा-मुंबई और उत्तर रेलवे रूट के ज्यादातर ट्रेनों में सीट का संकट खड़ा हो गया है। यात्रियों को कंफर्म सीट नहीं मिलने के कारण बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

छिटपुट कार्रवाई कर चुप बैठे अफसर

कुछ दिनों पहले रेलवे सुरक्षा बल के अफसरों ने पर्सनल आइडी से टिकट बनाने वाले दलाल को पकड़ा था। अफसर छिटपुट कार्रवाई कर चुप बैठ गए हैं। इधर, ट्रेनों में सीट की मारामारी की स्थित को देखते हुए टिकट एजेंट भी सक्रिय हो गए हैं। इतना ही नहीं नवंबर-दिसंबर में लंबी दूरी के ट्रेनो में अभी से नो रूम की स्थिति बनी हुए है। ट्रेनों में नो रूम की स्थिति को देखते हुए टिकट एजेंट भी सक्रिय हो गए है। आनलाइन से एक महीने में चार से चार टिकट ही ले सकते है। इससे एजेंट अक्टूबर नवंबर के लिए अभी से टिकट काउंटर से रिजर्वेशन करवा रहे हैं। ताकि अधिक कीमत पर टिकट बेच सके।

टिकट वेडिंग मशीन नहीं दे रही साथ

रेलवे स्टेशन में लगी आटोमेटिक टिकट वेंडिंग मशीन शो-पीस बनकर रह गई है। जरुरत के समय टिकट वेडिंग मशीन साथ नहीं दे रही है। यात्रियों को मजबूरन लाइन में खड़ा होकर टिकट लेना पड़ रहा है। बता दें कि दो वर्ष पहले रेलवे स्टेशन के टिकट काउंटर के पास आटोमेटिक वेडिंग मशीनें लगाई गई थी। मशीन लगाने का मुख्य मकसद काउंटर पर टिकट के लिए यात्रियों की मारामारी को कम किया जा सकें। कोरोना संक्रमण के बाद से मशीनें बंद पड़ी हुई है। यात्रियों को लाइन में लगकर टिकट लेना पड़ रहा है।

वर्जन

समय-समय पर ट्रेनों में अतिरिक्त कोच लगाया जाता है। ताकि यात्रियों को कंफर्म टिकट मिल सकें। जरुरत पड़ने पर अतिरिक्त कोच लगाया जाएगा।

-बीवीआर नायडू, पीआरओ

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local