घुमका, राजनांदगांव । ग्रामीण क्षेत्रों में इन दिनों कड़ाके की ठंड में भी अचानक गर्मी आ गई है कारण त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव है, ग्रामीण सत्ता को हथियाने के लिए सत्ता पक्ष विपक्ष और कई निर्दलीय बागी उम्मीदवार भी अपना भाग्य आजमा रहे हैं। घुमका क्षेत्र में जनपद, जिला पंचायत सदस्य, सरपंच एवं वार्ड पंच के लिए काफी संघर्षपूर्ण मुकाबले की स्थिति बन रही है, हालांकि यह चुनाव दलीय आधार पर नहीं हो रहे हैं परंतु फिर भी प्रमुख राजनीतिक दलों ने अपने अपने प्रत्याशियों को पार्टी की ओर से अधिकृत किया है।

जिला पंचायत क्षेत्र क्रमांक 7 के लिए अनुसूचित जाति महिला आरक्षति वर्ग से सदस्य के लिए चुनाव अत्यंत चुनौती भरा हो गया है इस क्षेत्र से हर्षिता स्वामी बघेल, क्रांति बंजारे एवं सविता जांगड़े प्रमुख रूप से मैदान पर हैं।

जहां भाजपा की ओर से सविता जांगड़े अधिकृत प्रत्याशी हैं कांग्रेस की ओर से पूर्व में हर्षिता को अधिकृत किया गया था। परंतु अचानक पुनः पार्टी कार्यालय की ओर से क्रांति बंजारे को अधिकृत कर दिया, जबकि पूर्व से अधिकृत प्रत्याशी भी चुनाव के लिए तैयार हो चुके हैं और संगठन तथा अधिकांश जनप्रतिनिधि भी हर्षिता के पक्ष में चुनाव प्रचार में जुटे हुए हैं। इसके चलते मामला पूरी तरह उलझ गया है।

घुमका क्षेत्र से लगा हुआ जिला पंचायत क्षेत्र क्रमांक 8 में भी कमोबेश इसी तरह की स्थिति बताई जा रही है। जहां पर शाहिद खान, हेमंत वैष्णव एवं अशोक देवांगन के बीच चुनावी जंग छिड़ी हुई है। जनपद सदस्य क्षेत्र क्रमांक 4 के लिए मात्र दो प्रत्याशी मैदान में हैं जिसमें चार पंचायतों के सात गांव को मिलकर सदस्य का चुनाव किया जाना है।

इस क्षेत्र के लिए भाजपा से दिलीप पटेल एवं कांग्रेस से चंद्रेश वर्मा चुनाव मैदान में हैं दोनों स्थानीय घुमका से आते हैं इसलिए मामला काफी रोचक एवं संघर्ष पूर्ण हो गया है क्योंकि घुमका शुरू से हाई प्रोफाइल सीट माना जाता है और जनपद सदस्य तथा सरपंच चुनाव में पूरे क्षेत्र की जनता की निगाह इन सीटों पर टिकी रहती है।

राजनीतिक गुटबाजी से प्रभावित अतिसंवेदनशील मतदान केंद्र समझे जाने वाले घुमका की चुनावी फिजा धीरे धीरे गहराने लग गई है। इसी तरह घुमका के सरपंच पद के लिए इस बार महिला के लिए आरक्षति हो जाने के कारण पुरुष वर्ग के कई दिग्गज दावेदार मायूस नजर आ रहे हैं वही सरपंच चुनाव में दिग्गजों की रुचि भी कम हो चुकी है। बहरहाल सरपंच चुनाव को लेकर ग्रामीण मतदाताओं में चुप्पी छाई हुई है जिसके चलते स्थिति फिलहाल की स्पष्ट नहीं है।

- पूरे प्रदेश में लगातार कांग्रेस के पक्ष में माहौल है प्रदेश सरकार की नीतियों से किसान और मजदूर के साथ सभी वर्ग के लोग खुश है अभी नगरीय निकायों में भी कांग्रेस को अभूतपूर्व सफलता मिली है इसी तरह त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में जनता कांग्रेस के साथ है। - भुनेश्वर बघेल, विधायक डोंगरगढ़

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket