राजनांदगांव(नईदुनिया प्रतिनिधि)। सर्पदंश से मौत के मामले में स्वजनों से रूपये मांगने के आरोप में फंसे औंधी अस्पताल के डाक्टर यशपाल सुमन पर एफआइआर दर्ज करने की मांग उठ रही है। बुधवार को पीड़ित परिवार के लोगों के साथ ग्रामीण औंधी थाना पहुंचे, जहां ग्रामीणों ने डाक्टर पर एफआइआर दर्ज करने की मांग की।

ज्ञात हो कि मृतक कार्तिक राम की मौत सर्पदंश से हुई थी। शासन से स्वजनों को इसका मुआवजा मिला। स्वजनों ने आरोप लगाया कि क्षतिपूर्ति राशि मिलने को लेकर ही औंधी थाना प्रभारी रहे तारण दास डहरिया और स्वास्थ्य केंद्र के डाक्टर यशपाल ने उनसे रूपये की मांग की थी। लगातार दबाव बनाने के बाद स्वजनों ने उन्हें 50 हजार रूपये कर्ज लेकर क्षतिपूर्ति मिलने से पहले दिया था। बावजूद दोबारा राशि की मांग कर जवान भेजे जा रहे थे। स्वजनों की इस शिकायत पर पुलिस ने गंभीरता दिखाते हुए औंधी थाना प्रभारी रहे तारण दास को निलंबित कर दिया। इसके बाद स्वजनों ने डाक्टर यशपाल सुमन के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराने की मांग की है। इसको लेकर ग्रामीण औंधी थाना पहुंचे थे। घटना बीते तीन मार्च 2021 की है। जब बागडोंगरी के कार्तिकराम यादव की सर्पदंश से मौत हो गई। स्वजन जब कार्तिक को अस्पताल ले गए तो वहां डाक्टर ने कारण पूछा।

जिसमें स्वजनों ने सर्प डंसने की जानकारी दी। तभी पुलिस और डाक्टर ने पीएम रिपोर्ट में सर्पदंश से मौत लिखने के लिए एक लाख रूपये की मांग की। जिस पर मृतक के भाई तिलक राम ने अपनी बहन से कर्ज लेकर 50 हजार रूपये दिया था। बाद में जब दोबारा रूपये मांगे तो स्वजनों ने पुलिस में शिकायत की। स्वजनों की शिकायत पर पुलिस ने औंधी थाना प्रभारी को सस्पेंड कर दिया। इधर स्वजन ग्रामीणों को लेकर औंधी थाना पहुंचे। जहां डाक्टर पर एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। इस मौके पर बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे। मानपुर एएसपी पुल्केश कुमार ने बताया कि ग्रामीणों ने शिकायत की है, जिसके आधार पर जांच कर रहे है। स्वजनों के साथ ग्रामीणों और अस्पताल कर्मचारियों का बयान लेंगे। इसके बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local