राजनांदगांव(नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर के मोतीपुर की फुलवारी बस्ती में रहने वाले आदित्य उर्फ गोविंदा सौदागर (19 वर्ष) की हत्या की गुल्थी का पुलिस ने राजफाश कर लिया है। धमकी का बदला लेने युवक को घर के पास बुलाया। फिर गोली मारकर हत्या कर दी। बसंतपुर पुलिस ने तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। वहीं एक अपचारी बालक को भी पकड़ा है। आरोपितों ने हत्या के बाद लाश को मोपेड से मोहारा स्थित शिवनाथ नदी में फेंक दिया था। इससे पहले शिवनाथ नदी तट पर लाश को काफी दूर तक घसीटा, जिससे मृतक आदित्य के पैर की चार उंगलियां अलग हो गई थी।

पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल ठाकुर ने मंगलवार को पत्रकारवार्ता में हत्या के मामले का राजफाश किया। उन्होंने बताया कि हत्या के मुख्य आरोपित तुलसीपुर बख्तावर चाल निवासी रमेश साहू उर्फ पिंटू खपट्टा (30 वर्ष) ने धमकी का बदला लेने मृतक आदित्य को घटना वाली रात करीब पौने 11 बजे अपने घर के पास बुलाया। जिसके बाद उसके सिर पर गोली मारकर हत्या कर दी।

आदित्य को मारने के बाद आरोपित ने अपने साथी रामनगर निवासी जावेद खान (20 वर्ष) व बजरंग चौक तुलसीपुर में रहने वाले युवराज उर्फ दीप सिंह राजपूत (18 वर्ष) और एक अपचारी बालक के साथ मिलकर लाश को मोहारा शिवनाथ नदी ले जाकर फेंक दिया। पुलिस ने मुख्य आरोपित रमेश उर्फ पिंटू खपट्टा के पास से पिस्टल व पांच कारतूस के साथ एक खाली खोख व घटना में उपयोग किए मोपेड वाहन को जब्त कर लिया है।

आरोपित ने इसलिए की आदित्य की हत्या

गिरफ्तारी के बाद आरोपितों से पुलिस ने एक-एक करके पूछताछ की, जिसमें हत्या के मामले का राजफाश हुआ। आरोपितों ने बताया कि मृतक आदित्य उर्फ गोविंदा सौदागर मुख्य आरोपित रमेश उर्फ पिंटू खपट्टा को बार-बार धमकी देता था कि वो अपने छोटे भाई मुकेश साहू को समझा दें। मेरी मां से दूर रहें, नहीं तो जान से मार दूंगा। मुख्य आरोपित रमेश उर्फ पिंटू खपट्टा के छोटे भाई मुकेश साहू का मृतक आदित्य के घर आना-जाना था। इसको लेकर मृतक आदित्य को शक था कि रमेश का भाई मुकेश उसकी मां के साथ कुछ गलत करता है।

आदित्य मुख्य आरोपित रमेश को कई बार धमकी दे चुका था। रोज-रोज की धमकी से गुस्साएं मुख्य आरोपित रमेश ने बीते शुक्रवार की रात जब आदित्य को अकेले देखा तो उसे अपने घर के पास बुलाया। इसके बाद धमकी का बदला लेने आरोपित ने गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। मुख्य आरोपित रमेश के खिलाफ शहर के लगभग थानों में पहले से मामले दर्ज है।

फुटेज में साथ दिखा था मृतक

पीएम रिपोर्ट में हत्या की पुष्टि होने के बाद पुलिस ने मोतीपुर-तुलसीपुर व ममता नगर रोड में सीसी टीवी फुटेज की जांच की। जिसमें आरोपितों के साथ मोटर साइकिल में मृतक आदित्य को देखा गया। आरोपित रमेश उर्फ पिंटू खपट्टा और जावेद खान मोपेड में आदित्य के शव को फेंकने गए थे।

इसकी जानकारी भी पुलिस को मुखबिर से मिली। जिसके बाद पुलिस ने दोनों आरोपितों के घर में दबिश दी, लेकिन दोनों ही आरोपित फरार थे। संदेह के आधार पर पुलिस ने उनके साथी युवराज उर्फ दीप सिंह राजपूत को हिरासत में लेकर पूछताछ की, लेकिन युवराज गोलमोल जवाब देता रहा। इसी बीच पुलिस ने मुख्य आरोपित रमेश और जावेद को पकड़ा। दोनों से अलग-अलग पूछताछ की, जिसमें हत्या का राजफाश हुआ।

आठ साल से रखी थी पिस्टल

रोज-रोज की धमकी से परेशान होकर मुख्य आरोपित रमेश उर्फ पिंटू खपट्टा ने आदित्य उर्फ गोविंदा की हत्या करने का मन बना लिया था। जिसमें आरोपित ने अपने दोस्तों को भी शामिल किया। आदित्य की हत्या के बाद आरोपित रमेश और जावेद खान दोनों उसके शव को दीप सिंह राजपूत की मोपेड से मोहारा शिवनाथ नदी ले गए। एसपी ने बताया कि जिस पिस्टल से हत्या की गई, उसे मुख्य आरोपित खपट्टा ने आठ साल पहले अपने दोस्त परवेज खान से ली थी। सात वर्ष पहले उसकी हत्या हो चुकी है। खपट्टा के खिलाफ अलग-अलग थानों में कई आपराधिक मामले दर्ज हैं।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close