राजनांदगांव(नईदुनिया प्रतिनिधि)। रेलवे के रैक में बिना अनुमति के माल लोडिंग करने का मामला सामने आया है लेकिन बड़ी बात यह है कि रेलवे के अफसरों को ही इसकी भनक नहीं लगी। देर से जानकारी मिलने के बाद अफसर भागे-भागे माल गोदाम की ओर पहुंचे। माल लोडिंग को लेकर संबंधित ठेकेदार व रेलवे के अफसरों में जमकर कहासुनी भी हुई। जिसके बाद ठेकेदार के एक कर्मचारी के खिलाफ कार्रवाई भी गई गई है।

बता दें कि रेलवे के रैक में माल लोडिंग करने के पहले नागपुर से अनुमति लेनी पड़ती है। लेकिन मंगलवार को बिना अनुमति के रेलवे के रैक में चावल लोडिंग की जा रही थी। मामले में रेलवे के अधिकारी, एफसीआई के अधिकारी व ठेकेदार के कर्मचारी गोलमोल जवाब दे रहे हैं। मंगलवार को रेलवे के माल गोदाम के पास 30 से 40 गाड़ियां एफसीआई गोदाम से चावल लेकर पहुंची और खाली हो रहे रैक में एफसीआई के अफसर के निर्देश में चावल लोडिंग करने का ठेका लेने वाले ठेकेदार के कर्मचारियों ने रैक में चावल बोरी लोडिंग करना शुरू कर दिया। जबकि रैक में चावल बोरी लोडिंग करने की अनुमति रेलवे से नहीं मिली थी।

10 रैक में चल रहा था लोडिंग कार्य

रेलवे के माल गोदाम के बाद रेलवे के 10 रैकों में एफसीआई द्वारा भेजे गई चावल

की लोडिंग का काम चल रहा था। ज्यादातर रैकों में 50 से 75 बोरी चावल लोडिंग हो

गया था। आनन-फानन में रेलवे कर्मचारियों द्वारा एफसीआई मैनेजर और ठेकेदार से कहकर रैकों से वापस चावल की अनलोडिंग कराई गई। इधर, रेलवे के अफसरों का कहना है कि एफसीआई द्वारा चावल

लोडिंग के लिए परमिशन मांगी गई थी।लेकिन परिमशन नहीं मिला था।

इसके बाद भी रैकों में लोडिंग का काम किया जा रहा था, जिसे खाली करा दिया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local