दंतेवाड़ा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को प्रमोशन और उनके पुत्र की एनएमडीसी में नौकरी लगवाने के नाम पर 10 लाख रुपये की ठगी करने वाले आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित पूर्व में ठगी के एक प्रकरण में जेल में था। किरंदुल पुलिस ने प्रोडक्शन वारंट के आधार पर उसे गिरफ्तार किया था। पूछताछ के बाद उसे फिर से जेल भेज दिया गया है।

पुलिस ने बताया कि प्रार्थिया किरन्दुल निवासी आंगनवाडी कार्यकता से सुपरवाइजर के पद पर प्रमोशन और उनके पुत्र की एनएमडीसी में नौकरी लगाने के नाम पर कुल 10 लाख रुपये का ठगी की गई थी। जिस पर पुलिस अधीक्षक दंतेवाडा सिद्धार्थ तिवारी,अति. पुलिस अधीक्षक राम कुमार बर्मन,योगेश पटेल व कर्ण कुमार उके के मार्गदर्शन में निरीक्षक जितेन्द्र ताम्रकार द्वारा थाना किरन्दुल से उप निरीक्षक शशिकांत टंडन,रेवा राम साहू तथा आरक्षक भोजराम की टीम बनाकर आरोपियों की पतासाजी की गई।

प्रकरण के मुख्य आरोपी महेन्द्र तिवारी उर्फ अशोक पाण्डे पिता शेषमणी तिवारी उम्र 31 वर्ष, निवासी कामरान टोला,उरतान थाना कोतमा, जिला अनुपपुर जो अपने आपको मंत्रालय का अधिकारी बताकर नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों से धोखाधड़ी कर पैसा लेता था। बलौदाबाजार के अपराध क्रमांक 484 / 2021 धारा 420, 34 भादवि तथा थाना अर्जुनी, जिला धमतरी में अपराध क्रमांक 215 / 2021 धारा 420, 120 (बी), 34 भादवि पंजीबद्ध है। जिला जेल धमतरी में निरूद्ध होने की सूचना पर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रट से प्रोडक्शन वारंट जारी करवाकर 16 अगस्त को गिरफ्तार किया गया। न्यायालय के समक्ष पेश किया गया है। प्रकरण में पूर्व में ही दो आरोपियों को मध्यप्रदेश से गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर भेजा गया है।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close