खबर का असर

बिश्रामपुर । नईदुनिया न्यूज

नईदुनिया में 17 जून को 'एसईसीएल के पर्यावरण जांच कक्ष से 12 लाख का मॉनिटरिंग सिस्टम चोरी' शीर्षक से प्रकाशित खबर के बाद भी एफआइआर दर्ज नहीं होने को लेकर लगातार प्रकाशित खबर के बाद अंततः बिश्रामपुर पुलिस ने सोमवार को उक्त चोरी के मामले में अज्ञात के विरुद्ध धारा 457, 380 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है। हालांकि 18 जून को लांगवाल स्टोर से तीन लाख के कलपुर्जे पार शीर्षक से प्रकाशित खबर के मामले में अभी भी अपराध दर्ज नहीं किया गया है।

गौरतलब है कि नईदुनिया के 17 जून के अंक में 'एसईसीएल के पर्यावरण जांच कक्ष से 12 लाख का मॉनिटरिंग सिस्टम चोरी' एवं 18 जून के अंक में 'लांगवाल स्टोर से तीन लाख के कलपुर्जे पार' शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया गया था। समाचार प्रकाशन को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक गिरजाशंकर जायसवाल ने बिश्रामपुर थाना प्रभारी को चोरी के दोनों मामलों में जांच के निर्देश दिए थे। जिसके बाद बिश्रामपुर थाना प्रभारी द्वारा चोरी के दोनों मामलों में एसईसीएल के संबंधित अधिकारियों एवं कर्मचारियों से चोरी के संबंध में विस्तृत जानकारी प्राप्त करना प्रारंभ कर दिया गया था।

ज्ञात हो कि कोयला खान क्षेत्र में सक्रिय चोर गिरोह द्वारा एसईसीएल की बलरामपुर भूमिगत खदान परियोजना के गवरबहरा नाला से सटे पर्यावरण जांच कक्ष के नीचे लगी लोहे की जाली तोड़कर कक्ष में स्थापित रियल टाइम ऑनलाइन मॉनिटरिंग सिस्टम की चोरी कर ली गई थी। जिसकी लागत 12 लाख रुपये से अधिक बताई गई थी। वहीं एसईसीएल के कुम्दा सब एरिया आफिस परिसर स्थित लांगवाल स्टोर से तीन लाख रुपये लागत के देशी एवं विदेशी मशीनी कलपुजोर् की चोरी की लिखित सूचना भी पुलिस को दी गई थी। इस मामले में समाचार प्रकाशन के बाद एसईसीएल प्रबंधन ने घटना की रात ड्यूटी में तैनात एक गार्ड को निलंबित करने के साथ ही अन्य तीन गाडोर् को शो काज नोटिस भी जारी किया है।

नईदुनिया में बार-बार प्रकाशित खबर के बाद 12 लाख के रियल मॉनिटरिंग सिस्टम चोरी के मामले में अंततः बिश्रामपुर पुलिस ने सोमवार को अज्ञात चोर के विरुद्ध धारा 457, 380 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है। वहीं लांगवाल स्टोर से तीन लाख के कलपुर्जे पार मामले में आज पर्यंत चोरी का अपराध दर्ज नहीं किया गया है।