बिश्रामपुर (नईदुनिया न्यूज)। देशभर में घोषित लॉकडाउन एवं लागू की गई धारा 144 के पालन में प्रशासन का अमला पूरी तरह अलर्ट है। वहीं एसईसीएल प्रबंधन द्वारा प्रशासनिक दिशा निर्देशों की धज्जियां उड़ाते हुए बचाव संबंधी सुरक्षा सामग्री उपलब्ध कराए बगैर कोयला कामगारों से कार्य कराया जा रहा है। इतना ही नहीं दीगर प्रांतों से लौटने पर होम आइसोलेशन में रखे गए कर्मचारियों के ड्यूटी करने से कोयला कर्मचारियों में भय का माहौल निर्मित है।

कलेक्टर से लेकर एसपी तक पूरी प्रशासनिक टीम के साथ सड़कों पर उतर कर कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम में जुटे हुए हैं। वहीं ऊर्जा संकट की स्थिति को रोकने आवश्यक सेवाओं को जारी रखने के तहत केंद्र सरकार के उपक्रम कोल इंडिया एवं एसईसीएल सहित उसकी सहायक कंपनियों में कोयला उत्पादन जारी रखने की छूट दी गई है। छूट के साथ इस बात का भी निर्देश जारी किया गया है कि प्रबंधन कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए शासन द्वारा जारी बचाव एवं सुरक्षा संबंधी व्यवस्था करने के साथ ही कार्यस्थल पर कोयला उत्पादन अथवा उससे संबंधित कार्य कराया जाए।

प्रबंधकीय लापरवाही से भय की स्थिति

एसईसीएल बिश्रामपुर क्षेत्र के रीजनल वर्कशाप समेत अन्य कार्य स्थलों एवं कोयला खदानों में प्रबंधकीय लापरवाही के कारण कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए निर्देशित बचाव व सुरक्षा उपाय किए बगैर कोयला कर्मचारियों से कार्य कराए जाने के कारण कोयला कामगार भय की स्थिति में ड्यूटी करने को मजबूर है। प्रबंधकीय कार्यवाही का शिकार होने से बचने के लिए नाम ना छापने का आग्रह करते हुए एसईसीएल के क्षेत्रीय रीजनल वर्कशप में कार्यरत कोयला कामगारों ने बताया कि दीगर प्रांतों से लौटने पर होम आइसोलेशन में रखे गए कोयला कामगार भी ड्यूटी कर रहे हैं जिसका विरोध करने पर भी प्रबंधन पूरी तरह उदासीन है। कामगारों ने यह भी बताया कि कार्यस्थल पर बचाव के लिए घोषित दिशा निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है। इसी प्रकार प्रबंधन द्वारा कार्यस्थल पर सैनिटाइजर एवं फेस मास्क समेत बचाव एवं सुरक्षा के उपाय के कराए बगैर सैनिटाइजेशन किए एक ही मशीन में अनेक कामगारों से कार्य कराया जा रहा है।

नईदुनिया की सूचना पर पहुंचे अपर कलेक्टर-

नईदुनिया कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए चलाए जा रहे प्रशासनिक अभियान में अपनी पैनी नजर बनाए हुए हैं। नईदुनिया से जानकारी मिलते ही कलेक्टर दीपक सोनी के निर्देश पर अपर कलेक्टर एस मोटवानी ने तत्काल एसईसीएल के रीजनल वर्कशाप पहुंचकर कार्यस्थल का जायजा लेते हुए क्षेत्रीय महाप्रबंधक सतीश श्रीवास्तव को सख्त निर्देश दिए कि बगैर सुरक्षा उपाय के किसी भी कामगार से कार्य ना कराया जाए। दिशा निर्देशों का ईमानदारी से पालन किया जाए। साथ ही उन्होंने निर्देशित किया कि होम आइसोलेशन में रखे गए कामगारों से ड्यूटी ना कराई जाए।

होम आइसोलेशन में रखे गए कोयला कर्मचारियों से कार्य कराया जाना अत्यंत गंभीर विषय है। इसी प्रकार कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए जारी दिशा-निर्देशों का पालन किए बगैर कोयला कामगारों से कार्य कराया जाना भी निंदनीय कृत्य है। सुरक्षा के संबंध में संगठन द्वारा महाप्रबंधक को पत्र भी लिखा गया है। इस दिशा में सख्त कदम उठाया जाना चाहिए।

सुजीत सिंह, केंद्रीय महामंत्री बीकेकेएमएस

संबंधित अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिया जा चुका है कि सुरक्षा व्यवस्था के साथ ही कोयला कामगारों से कार्यस्थल पर कार्य लिया जाना है। शासन द्वारा जारी गाइडलाइन का सख्ती से पालन किया जाएगा। इस मामले में लापरवाही करते पाए जाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

सतीश श्रीवास्तव, महाप्रबंधक बिश्रामपुर क्षेत्र

कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए जारी बचाव एवं सुरक्षा संबंधी निर्देशों का पालन किए बगैर कोयला खान क्षेत्रों में कोयला कामगारों से कार्य कराया जाना अत्यंत गंभीर विषय है। होम आइसोलेशन में रखे गए कर्मचारियों से कतई कार्य नहीं लिया जाना है। इस संबंध में क्षेत्रीय महाप्रबंधक को सख्त निर्देश दिए गए हैं। निर्देश का पालन नहीं किया जाना पाए जाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

एस. मोटवानी, अपर कलेक्टर सूरजपुर

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket