रामानुजनगर/सूरजपुर । नईदुनिया न्यूज

जिले के रामानुजनगर स्थित सेंट्रल बैंक आफ इंडिया के शाखा प्रबंधक एवं दो अन्य अधिकारियों के विरुद्ध पुलिस ने 420 का अपराध पंजीबद्ध किया है।

एसडीओपी प्रकाश सोनी ने बताया कि रामानुजनगर क्षेत्र के ग्रामीणों एवं अन्य पीड़ितों ने पुलिस के समक्ष शिकायत की थी कि सेंट्रल बैंक में शाखा प्रबंधक और अधिकारियों के द्वारा आपसी मिलीभगत से मनमानी तरीके से ऋण स्वीकृत किया जाता है और ऋण राशि का उपयोग वे स्वयं करते हैं, जबकि ब्याज की रकम की अदायगी उपभोक्ताओं को करना पड़ता है। शिकायत को लेकर कुछ पीड़ितों ने पुलिस अधीक्षक राजेश कुकरेजा से भी मुलाकात की थी। जिले के पुलिस कप्तान राजेश कुकरेजा ने इस पूरे प्रकरण को गंभीरता से लिया और एसडीओपी प्रकाश सोनी के मार्गदर्शन में रामानुजनगर थाना प्रभारी गोपाल धुर्वे को कार्रवाई और आरोपियों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि सेंट्रल बैंक कि रामानुजनगर शाखा के प्रबंधक आलोक गुप्ता, उप प्रबंधक सुरेंद्र मरांडी और कैशियर अभिषेक मंडल के द्वारा बैंक के आठ से भी अधिक खातेदारों का मनमानी तरीके से लोन स्वीकृत किया और लोन की राशि का आहरण स्वयं करने लगे जबकि इस लोन की रकम पर लगने वाले ब्याज की अदायगी ग्राहक को करना पड़ रहा था। इस शिकायत की जांच जब पुलिस के द्वारा की गई तो पुलिस ने बैंक प्रबंधक से मुलाकात की और दस्तावेज का अध्ययन करने पर जब पूरी तस्वीर सामने आ गई तो उन्होंने बैंक के प्रबंधक आलोक गुप्ता, उप प्रबंधक सुरेंद्र मरांडी व कैशियर अभिषेक मंडल के विरुद्ध धारा 420, 409, 407, 468, 471 भादवि के तहत अपराध पंजीबद्ध किया है। तीनों आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। उन्होंने प्रकरण से संबंधित अभिलेख भी बैंक से जब्त किए हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network