नई दिल्ली। दिल्ली के भजनपुरा इलाके में एक घर में माता-पिता और तीन बच्चों की लाश मिली है। माना जा रहा है कि इनकी बेरहमी से हत्या की गई है। तेज दुर्गंध आने पर पड़ोसियों ने वारदात की सूचना पुलिस को दी। माना जा रहा है कि हत्या को पांच से छह दिन पहले अंजाम दिया गया। ह्ता के बाद इतने दिनों तक शव घर में पड़े रहे। इसके कारण सभी शव बुरी तरह सड़-गल चुके थे। मृतकों की शिनाख्त शंभूनाथ चौधरी (45), पत्नी सुनीता (40), बेटे शिवम कुमार (17), सचिन (14) और बेटी कोमल (12) के रूप में हुई है। दंपती का शव एक कमरे से ब, जबकि तीनों बच्चों के शव दूसरे कमरे में पड़े थे। शव के पास ही एक हथौड़ा और आरी भी बरामद हुई है। आशंका जताई जा रही है कि इनका इस्तेमाल हत्याओं के लिए किया गया। संयुक्त आयुक्त आलोक कुमार ने घटनास्थल का दौरा किया। पुलिस रिश्तेदारों, पड़ोसियों और मकान में रहने वाले दूसरे किरायेदारों से पूछताछ के साथ घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालने में जुटी है।

शवों को पोस्टमार्टम के लिए जीटीबी अस्पताल भेजा गया है। जानकारी के अनुसार मूलरूप से बिहार के सुपौल के रहने वाले शंभूनाथ परिवार के साथ सी ब्लॉक, गली नंबर-11, भजनपुरा में किराये पर रहते थे। करीब छह महीने पहले ही यह परिवार इस मकान में रहने आया था। शंभूनाथ ई-रिक्शा चलाते थे और उनके तीनों बच्चे यमुना विहार स्थित सरकारी स्कूल में पढ़ते थे। शिवम बारहवीं, सचिन नौवीं और कोमल सातवीं कक्षा में थी। एक साल पहले तक मृतक शंभू जूस की रेहड़ी लगाते थे और बाद में उन्होंने ई-रिक्शा चलाना शुरू कर दिया था। बुधवार सुबह उनके मकान के सामने वाले दुकानदार को जब तेज बदबू आई तो उसने पहले नगर निगम को फोन किया। निगम के कर्मचारी घटनास्थल पर पहुंचे तो उन्हें मकान बंद मिला। बदबू मकान के अंदर से आ रही थी। निगमकर्मियों ने दिन में करीब 11.15 बजे पुलिस को इस संबंध में सूचना दी। पुलिस जब मकान का ताला तोड़कर अंदर पहुंची तो उनके होश उड़ गए। एक कमरे में शंभू उसकी पत्नी सुनीता और दूसरे कमरे में तीनों बच्चों के शव पड़े हुए थे। आसपास फैला हुआ खून पूरी तरह से सूख चुका था। कमरों में सारा सामान भी फैला हुआ था। इससे प्रतीत होता है कि हत्या के समय हर्यारों से झगड़ा हुआ और उसके बाद में कमरे की तलाशी ली गई।

शंभू के मकान में दो दरवाजे हैं। मुख्य दरवाजे पर ताला लगा हुआ था, जबकि दूसरा छोटा दरवाजा अंदर से बंद था। परिवार की हत्या किसने और क्यों की, फिलहाल इसका पता नहीं चल पाया है। इस मामले में शंभू के चाचा मुन्नालाल चौधरी का कहना है कि उनके परिवार की किसी से कोई रंजिश नहीं थी। घर की आर्थिक स्थिति भी सामान्य थी। घर से कुछ गायब है या नहीं, इसकी उनको जानकारी नहीं है। पुलिस शंभू के मोबाइल की सीडीआर (कॉल डिटेल रिकार्ड) निकलवा रही है।

हत्या का केस दर्ज किया गया है। क्राइम व एफएसएल की टीम ने साक्ष्य जुटाए हैं। इनके आधार पर मामले की जांच की जा रही है। - वेद प्रकाश सूर्या, पुलिस उपायुक्त

Posted By: Neeraj Vyas