नोएडा। नोएडा स्थित जीआइपी मॉल की तीसरी मंजिल पर बर्गर किग इंडिया फूड का सेल्स मैनेजर सुमित कुमार ग्राहकों के कार्ड का डेटा इलेक्ट्रानिक डिवाइस के जरिये चुराकर सॉफ्टवेयर इंजीनियर दोस्त राहुल को बेच रहा था। इसके बाद कार्ड का क्लोन बनाकर रकम निकाली जाती थी। पिछले करीब तीन माह से यह फर्जीवाड़ा चल रहा था।

शिकायत बैंक के जरिये रेस्त्रां तक पहुंची तो कंपनी ने जांच शुरू कराई। इस पर सेल्स मैनेजर फरार हो गया। कंपनी ने आरोपित सेल्स मैनेजर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपित सुमित कुमार मूलरूप से हिगवाड़ा बुलंदशहर उप्र का रहने वाला है। पिछले छह माह से वह जीआइपी मॉल स्थित बर्गर किग में काम कर रहा था।

आरोपित ने बताया कि उसके इंजीनियर दोस्त राहुल ने उसे एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस दी थी। इसी डिवाइस की मदद से वह ग्राहकों का डेटा चुराकर राहुल को उपलब्ध कराता था। पुलिस इस मामले में गिरफ्तार आरोपित के दोस्त राहुल की तलाश कर रही है। इंस्पेक्टर उदय प्रताप का कहना है कि पांच हजार से अधिक ग्राहकों के कार्ड क्लोन होने की संभावना है।

आरोपित ने पूछताछ में बताया है कि ग्राहकों के कार्ड की कॉपी कर दोस्त को देने पर उसे हर माह 15 से 20 हजार रुपये मिलते थे। एचडीएफसी बैंक की तरफ से 30 जनवरी को आए एक ईमेल से कंपनी को जानकारी मिली कि जीआइपी स्थित इस रेस्त्रां से कुछ संदिग्ध लेन-देन दर्ज हुए हैं।

जांच में पता चला कि सुमित ग्राहकों के कार्ड के विवरण को गलत तरीके से प्राप्त करता था। वह एक अतिरिक्त मशीन में कार्ड को स्वाइप करता था, जो बर्गर किग की नहीं है।

Posted By: