नई दिल्ली। अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआइपी हेलीकॉप्टर घोटाले में आरोपित ब्रिटिश नागरिक क्रिश्चियन मिशेल को निचली अदालत द्वारा दी गई अंतरराष्ट्रीय कॉल करने की सुविधा पर जवाब मांगा है।

तिहाड़ जेल प्रशासन ने मिशेल को प्रत्येक सप्ताह 15 मिनट तक अपने परिवार और अधिवक्ता से बात करने की इजाजत देने के निचली अदालत के आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी है।

हाई कोर्ट ने यह कहा

हाई कोर्ट ने मिशेल से इस पर तीन सप्ताह में जवाब दाखिल करने को कहा है। हाईकोर्ट के 31 जुलाई के निर्देश पर बुधवार को मिशेल को पेश किया गया।

मिशेल ने कोर्ट को बताया कि मनी लांड्रिग मामले में वह दो सुनवाई में पेश नहीं हो सका, क्योंकि जेल अधिकारियों ने इसकी सूचना नहीं दी थी। हाई कोर्ट ने अंतरराष्ट्रीय कॉल करने के बारे में पूछा तो जवाब दिया कि कॉल नहीं कर सका।

रखते हैं सभी कैदियों के फोन कॉल का रिकॉर्ड

दिल्ली सरकार के वकील ने कहा कि जेल अधिकारी सभी कैदियों के फोन कॉल का रिकॉर्ड रखते हैं। मिशेल ने भी नियमित रूप से कॉल की है, इसका रिकॉर्ड जेल अधिकारियों के पास मौजूद है।

उठाई गई यह मांग

तिहाड़ जेल प्रशासन ने याचिका में कहा है कि मिशेल को मिल रही सुविधा के कारण अन्य कैदियों ने भी इसकी मांग शुरू कर दी है। इस पर हाई कोर्ट ने मिशेल से जवाब मांगा और सुनवाई 9 अक्टूबर के लिए स्थगित कर दी।