दिल्ली। राजधानी दिल्ली के भीड़ भाड़ वाले इलाके द्वारका में रविवार को दो अपराधी गुटों के बीच दिनदहाड़े दोपहर करीब 3 बजे हुए गैंगवार में दो लोगों की मौत हो गई। एक अपराधी को दूसरे गैंग के शख्स ने बीच सड़क पर गोली मार दी जबकि गोली मारने वाले नामी अपराधी को एक बहादुर कांस्टेबल नरेश कुमार ने ललकारते हुए ढेर कर दिया। इस बहादुरी के लिए 56 साल के नरेश रातोंरात हीरो बन गए। हर कोई उनकी तारीफ कर रहा है। नौकरी के आखिरी पड़ाव में दिल्ली पुलिस उन्हें इस बहादुरी के लिए आउट ऑफ़ टर्न प्रमोशन देने जा रही है।

लगा आतंकी हमला हुआ हो

द्वारका मेट्रो स्टेशन के पास अचानक दोपहर में गोलीबारी की आवाज शुरू हुई। एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि, 'अगर पुलिस समय पर नहीं आती तो ये लोग कुछ भी कर सकते थे। मैंने अपनी जिंदगी में इससे पहले ऐसा कुछ नहीं देखा। जिस कार पर गोलियां चलीं उस कार की पूरी विंडस्क्रीन गोलियों से भून दी गई थी, मैंने गिनने पर पाया कि कार पर 14 गोलियां चलाईं गई थीं।'

यह था पूरा घटनाक्रम

गोलियों की आवाज सुनकर पास में खड़ी पीसीआर मौके पर आई। बदमाशों को रोकने के लिए पीसीआर में तैनात कांस्टेबल नरेश ने फायरिंग कर रहे लोगों को ललकारा। कांस्टेबल नरेश एक पिलर के पीछे छिप गए और वहां से अपराधियों पर गोली चलाने लगे। नरेश कुमार ने 3 गोलियां दागी जो आपराधिक गैंग के सदस्य विकास दलाल की गर्दन, चेहरे और हाथ में जा लगी। पुलिस को देखकर इन लोगों ने पुलिस पर भी फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस अधिकारियों के अनुसार दोनों गाड़ियों में बदमाशों की संख्या करीब 6 से 7 थी। दोनों एक दूसरे पर फायरिंग कर रहे थे।

यह था मामला

द्वारका गैंगवॉर में मारे गए गैंगस्टर में एक मंजीत महाल गैंग का दायां हाथ प्रवीण गहलोत और दूसरा बदमाश विकास दलाल था। विकास दलाल पहले मंजीत महाल गैंग के लिए ही काम करता था, लेकिन बाद में वह किसी वजह से इस गैंग से अलग हो गया। तभी से दोनों के बीच दुश्मनी थी। रविवार को विकास को यह पता चला कि प्रवीण द्वारका आने वाला है तभी उसने प्रवीण को मारने का प्लान बनाया। वह अपने साथ तीन-चार बदमाशों को लाया था। पहले उसने प्रवीण की गाड़ी पर एक दर्जन से अधिक गोलियां चलाईं फिर बाद में गाड़ी से उतरकर प्रवीण की गाड़ी पर फायरिंग की थी। पुलिस को आता देख उसने भागने की कोशिश की लेकिन कॉन्स्टेबल नरेश की गोली उसे लग गई और वो वहीं ढेर हो गया।

Posted By: Sushma Barange

  • Font Size
  • Close