नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के उत्तर-पूर्व के मौजपुर इलाके में सोमवार को भी हिंसा का दौर जारी रहा और इस दौरान नागरिकता कानून (CAA) के विरोधियों और समर्थकों के बीच खूब हिंसा हुई। इस हिंसा में एक हेड कॉन्स्टेबल समेत मरने वालों की संख्या 8 हो गई है। वहीं पुलिस ने उस शख्स को हिरासत में ले लिया है जिसने फायरिंग की थी। जानकारी के अनुसार, लाल शर्ट पहने हिंसा के दौरान फायरिंग करने वाले इस शख्स की पहचान शाहरुख के रूप में हुई है और पुलिस ने इसे हिरासत में ले लिया है। जानकारी के अनुसार इस हिंसा में पांच लोगों की मौत हुई थी लेकिन मंगलवार को यह आंकड़ा बढ़कर 8 हो गया। इसके अलावा 105 लोगों के घायल होने की सूचना है।

सोमवार को लगातार दूसरे प्रदर्शनकारियों ने एक-दूसरे पर पथराव किया जिसमें दिल्ली पुलिस के एक हेड कॉन्स्टेबल की मौत हो गई और एक पुलिस उपायुक्त घायल हो गए। प्रदर्शनकारियों ने जमकर आगजनी की। घरों, दुकानों और वाहनों में आग लगा दी। सीएए समर्थकों व विरोधियों के बीच चांदबाग और भजनपुरा इलाकों में भी झड़पें हुईं।

सरकारी सूत्रों ने कहा कि दिल्ली के कुछ इलाकों में हिंसा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा को ध्यान में रखते हुए की गई है। जाफराबाद में पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। मौजपुर में भारी पथराव किया गया। मौजपुर और भजनपुरा में दुकानों व घरों में तोड़फोड़ की गई और आगजनी की गई। प्रदर्शनकारियों के पथराव में एसीपी गोकलपुरी के कार्यालय में तैनात हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल की मौत हो गई। उन्हें सिर में गंभीर चोटें आई थीं। प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के दौरान पुलिस उपायुक्त, शहादरा अमित शर्मा घायल हो गए। एक प्रदर्शनकारी गन लेकर पुलिसकर्मियों की ओर बढ़ता देखा गया। उसने हवा में कुछ गोलियां भी चलाईं।

अधिकारियों के अनुसार आग बुझाने पहुंचे एक दमकल वाहन को भी प्रदर्शनकारियों ने क्षतिग्रस्त कर दिया। पुलिस ने इलाके में निषेधाज्ञा लगा दी है। दिल्ली मेट्रो ने जाफराबाद और मौजपुर-बाबरपुर स्टेशनों पर प्रवेश और निकास द्वार बंद कर दिए। जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार पिछले 24 घंटों से बंद हैं। उल्लेखनीय है कि सीएए के खिलाफ बड़ी संख्या में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने रविवार को सड़क अवरुद्ध कर दी थी जिसके बाद जाफराबाद में सीएए के समर्थकों और विरोधियों के बीच झड़प शुरू हो गई थी। दिल्ली के कई अन्य इलाकों में भी ऐसे ही धरने शुरू हो गए हैं।

Posted By: Ajay Barve