नई दिल्ली। क्रिकेटर से नेता बनें गौतम गंभीर के पास 147 करोड़ रुपए से अधिक की संपत्ति है। इस संपत्ति के साथ वह इस लोकसभा चुनाव के लिए सभी 349 उम्मीदवारों में से सबसे अमीर कैंडिडेट बन गए हैं।

गौतम गंभीर को भाजपा ने पूर्वी दिल्ली निर्वाचन क्षेत्र से चुना है। उन्होंने साल 2017-18 के लिए दाखिल आयकर रिटर्न में लगभग 12.40 करोड़ रुपए की आय दर्शाई है। उनकी पत्नी नताशा गंभीर ने इसी अवधि के दौरान दाखिल आयकर रिटर्न में 6.15 लाख रुपए की आय दिखाई। गंभीर के पास पांच फोर व्हीलर और एक टू व्हीलर है।

गंभीर ने अपनी स्कूली शिक्षा मॉडर्न स्कूल, बाराखंभा रोड से की, लेकिन हिंदू कॉलेज में अपना ग्रेजुएशन पूरा नहीं कर सके। उन्हें कांग्रेस के पूर्व विधायक अरविंदर सिंह लवली और AAP के आतिशी के खिलाफ खड़ा किया जा रहा है। लवली की कुल संपत्ति 6.8 करोड़ रुपए है। 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव लड़ने के बाद से लवली की संपत्ति में 2.32 करोड़ रुपए की वृद्धि हुई।

पश्चिम दिल्ली से चुनाव लड़ रहे कांग्रेस के महाबल मिश्रा, भाजपा और कांग्रेस के उम्मीदवारों में दूसरे सबसे अमीर थे, जिन्होंने मंगलवार को अपना नामांकन दाखिल किया। उनकी कुल संपत्ति 45 करोड़ रुपए थी। हलफनामे के मुताबिक साल 2014 के लोकसभा चुनावों के बाद उनकी संपत्ति में 12 करोड़ रुपए की वृद्धि हुई थी।

विजेंद्र सिंह दक्षिण दिल्ली से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं और उनके पास कुल संपत्ति 12.14 करोड़ रुपए है। एक प्रोफेशनल बॉक्सर रहे विजेंद्र पहले भारतीय बॉक्सर थे जिन्होंने 2008 ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था। उन्होंने महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय, रोहतक से बीए की डिग्री ली है।

तीन बार दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री रहीं शीला दीक्षित ने उत्तर पूर्वी दिल्ली संसदीय सीट से अपना नामांकर दाखिल किया। अपने हलफनामों में उन्होंने कुल संपत्ति 4.92 करोड़ रुपए बताई है। उन्होंने हलफनामे में कहा है कि उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से इतिहास से एमए किया है। साल 2013 के विधानसभा चुनावों को लड़ने के बाद से दीक्षित की संपत्ति में 2.1 करोड़ रुपए की वृद्धि हुई।

कांग्रेस के सभी सात उम्मीदवारों और भाजपा द्वारा मैदान में उतरे तीन उम्मीदवारों सहित कम से कम 164 उम्मीदवारों ने मंगलवार को अपना नामांकन दाखिल किया। कुल मिलाकर 349 उम्मीदवारों ने अपने नामांकन दाखिल किए हैं। नामांकन दाखिल करने की आखिरी तारीफ 23 अप्रैल, 2019 है।

Posted By: Arvind Dubey

fantasy cricket
fantasy cricket