नई दिल्ली। दिल्ली की केजरीवाल सरकार जल्द ही महिलाओं को बड़ी सौगात दे सकती है। 15 अगस्‍त से महिलाओं को मुफ्त यात्रा का तोहफा मिल सकता है। यह सुविधा दिल्‍ली-एनसीआर की महिलाओं को मिल सकती है।

इसके कैबिनेट मसौदा को विधि विभाग की हरी झंडी मिल गई है। बसों में महिलाओं की मुफ्त यात्रा पर सरकार को सालाना 300 करोड़ रुपये खर्च करना पड़ सकता है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल 15 अगस्त को महिलाओं की मुफ्त यात्रा की घोषणा कर सकते हैं। इससे पहले दिल्ली सरकार ने 3 जून को बसों में महिलाओं को मुफ्त यात्रा की सौगात देने की घोषणा की थी। इस योजना के तहत महिलाओं को बसों में पिंक कार्ड दिया जाएगा। इससे वह मुफ्त यात्रा कर सकेंगी।

गौरतलब है केजरीवाल सरकार इस योजना को जल्‍द से जल्‍द लागू करना चाह रही है। इस योजना पर काफी दिनों से काम चल रहा है। ऐसे में यह उम्‍मीद जताई जा रही है कि 15 अगस्‍त को दिल्‍ली सरकार इसकी घोषणा कर सकती है। इस संबंध में सरकार ने इस योजना पर अपनी राय देने के लिए बसों में विज्ञापन दिया था। डीटीसी व क्लस्टर सेवा की बसों में इस योजना के लिए लोगों से सुझाव मांगे गए हैं। इससे पहले सरकार अखबारों में विज्ञापन देकर जनता के सुझाव मांग चुकी है। सुझाव देने के लिए पहले तारीख 15 जून निर्धारित की गई थी, जिसे बढ़ाकर 30 जून कर दिया गया है।

दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के अधिकारी के मुताबिक मेट्रो में मुफ्त यात्रा को लेकर जोरशोर से तैयारी चल रही है। सरकार इसे किस तरह लागू करती है इस पर विचार चल रहा है। डीएमआरसी ने इस संबंध में कुछ दिनों पहले ही दिल्ली सरकार के पास प्रस्ताव भेजा था।

प्रस्ताव में मेट्रो ने दो तरह के तरीकों पर चर्चा की थी। पहला यह कि महिलाएं मेट्रो में टोकन व कार्ड से भी यात्रा कर सकेंगी, जबकि दूसरा तरीके में केवल टोकन का ही विकल्प बताया था। इसी प्रस्ताव पर सरकार राजी है। इस योजना के लिए गुलाबी रंग के टोकन जारी किए जाएगे। महिलाओं के प्रवेश के लिए अलग से गेट बनाए जाएंगे। यही नहीं इसके लिए डीएमआरसी को सॉफ्टवेयर में भी कोई खास बदलाव नहीं करना होगा।

दिल्ली सरकार द्वारा मेट्रो व बसों में महिलाओं को मुफ्त सफर कराने की योजना का लाभ एनसीआर क्षेत्र की महिलाओं को मिलने की संभावना बढ़ गई है। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने सरकार से कहा है कि ऐसी व्यवस्था कर पाना कठिन है कि दिल्ली की महिलाओं का टिकट न लगे और एनसीआर की महिलाओं का लगे।

कुछ दिनो पहले परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने भी कहा था कि एनसीआर क्षेत्र और दिल्ली की आबादी घुली-मिली है। उन्होंने कहा कि हम इस पर विचार कर रहे हैं इस योजना का लाभ एनसीआर क्षेत्र की महिलाओं को भी मिले। उन्होंने कहा कि डीएमआरसी ने जो जानकारी दी है उसके अनुसार मेट्रो में सफर करने वाली कुल महिलाओं में से एनसीआर क्षेत्र की महिलाओं का आंकड़ा केवल 4 फीसद है। ऐसे में हम यही प्रयास कर रहे हैं कि एनसीआर क्षेत्र की महिलाओं को भी इसमें शामिल किया जाए।