गुरुग्राम। सोमवार को गुरुग्राम के एसजीटी विश्वविद्यालय (श्री गुरु गोबिंद सिंह ट्राइकेन्टेंनेरी विश्वविद्यालय) में उस वक्त हंगामा शुरू हो गया, जब वहां पढ़ने वाली कश्मीर मूल की एक छात्रा ने पुलवामा हमले पर वाट्सएप पर आपत्तिजनक शब्दों में अपना स्टेट्स लगाया। कुछ विद्यार्थियों ने छात्रा के वाट्सएप पर लगाए स्टेटस का स्क्रीनशॉट लेकर संस्थान प्रबंधन से छात्रा के खिलाफ एक्शन की मांग की।

जब सोमवार को कोई एक्शन नहीं लिया गया तो मंगलवार को विद्यार्थियों ने जोरदार प्रदर्शन किया, रैली निकाली और 'पाकिस्तान मुर्दाबाद' और 'भारत माता की जय' के नारे लगाए। अंततः विश्वविद्यालय प्रबंधन ने विद्यार्थियों की मांग पर मामले की जांच करने के बाद तत्काल प्रभाव से छात्रा को संस्थान से निष्कासित कर दिया। पुलिस ने शिकायतकर्ताओं को 48 घंटे में मामले की जांच करके कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।

बंगाल में कश्मीरी डॉक्टर की बेटियों का दोस्तों पर बहिष्कार का आरोप

पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद धमकियां मिलने का दावा करने वाले कश्मीरी डॉक्टर की बेटियों को स्कूल में उपेक्षा का सामना करना पड़ रहा है। कोलकाता में 22 वर्ष से रह रहे एक कश्मीरी डॉक्टर ने दावा किया था कि पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद उसे शहर छोड़ने या फिर 'गंभीर परिणाम' भुगतने की धमकी दी जा रही है।

डॉक्टर ने सोमवार को हालांकि पश्चिम बंगाल सरकार के उसके बचाव में आने के बाद वहीं रहने का निर्णय किया था। डॉक्टर की नौ और सात वर्षीय दो बेटियां हैं जो शहर के एक बड़े अंग्रेजी माध्यम स्कूल में पढ़ती हैं। पश्चिम बंगाल राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग डॉक्टर और उनके परिवार की सुरक्षा सुनिश्चित कर रहा है।

शहादत पर सवाल उठाने वाला शिक्षक बर्खास्त

जिले के डनलप इलाके में स्थित एक स्कूल के शिक्षक को सोशल मीडिया पर सीआरपीएफ जवानों की शहादत पर सवाल उठाने को लेकर बर्खास्त कर दिया गया है, हालांकि स्कूल प्रबंधन का कहना है कि शिक्षक ने खुद से इस्तीफा दिया है। इतिहास विषय के शिक्षक चित्रदीप सोम का आरोप है कि स्कूल ने गत 15 फरवरी को लिखे गए पोस्ट के लिए उन्हें इस्तीफा देने पर मजबूर किया, जिसमें उन्होंने जवानों को शहीद बताने के पीछे तर्क मांगा था।

उत्तराखंड में देश विरोधी वीडियो पर आक्रोश, कार्रवाई की मांग

फेसबुक पर एक युवक के भारत के खिलाफ पाकिस्तान की न्यूज का वीडियो पोस्ट करने से लोग आक्रोशित हो गए। पुलिस अधिकारियों ने लोगों से धैर्य रखने की अपील करते हुए कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिया है। मामले की जांच शुरू कर दी है। तहरीर में कहा गया है कि एक युवक ने फेसबुक पर पाकिस्तानी उर्दू चैनल न्यूज का वीडियो शेयर किया है। इसमें कहा गया है कि पाकिस्तान का मुकाबला मुमकिन नहीं है। पाकिस्तान ने भारत के प्रधानमंत्री को खबरदार कर दिया है। भारत दस दिन भी जंग नहीं लड़ सकता है।