नई दिल्ली। तत्काल तीन तलाक पर नया कानून बनने के बाद राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पहला मामला सामने आया है, जिसमें एक युवक ने तत्काल तीन बार तलाक बोलकर पत्नी और बेटे को घर से निकाल दिया।

महिला की शिकायत पर बाड़ा हिदू राव थाना पुलिस ने 9 अगस्त को द मुस्लिम वुमन (प्रोटेक्शन ऑफ राइट ऑन मैरिज) एक्ट के सेक्शन 4 के तहत मुकदमा दर्ज कर आरोपित शौहर को गिरफ्तार कर लिया है। शनिवार को तीस हजारी कोर्ट से उसे जमानत मिल गई।

क्‍या है पूरा मामला

उत्तरी जिला पुलिस अधिकारी के मुताबकि वजीराबाद निवासी रायमा याहिया ने शिकायत में कहा है कि नवंबर 2011 में उनकी शरीयत कानून के तहत नया मोहल्ला, पुल बंगश , आजा मार्केट निवासी अतीर शमीम से निकाह हुआ था। रायमा ने 23 जून 2013 को बेटे को जन्म दिया।

आरोप है कि इसके बाद शौहर व ससुराल वालों ने दहेज के लिए उन्हें प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। 30 जून को अतीर ने तत्काल तीन तलाक बोलकर रायमा और छह साल के बेटे को घर से बाहर निकाल दिया।

वाट्सऐप पर भेजा था फतवा

वह बेटे को लेकर वजीराबाद स्थित माता-पिता के घर आ गईं, लेकिन वहां भी ठिकाना नहीं मिल सका क्योंकि माता-पिता विदेश गए हुए थे। इधर अतीर शमीम ने रायमा के भाई को भी वाट््‌स एप पर फतवा भेज दिया। रायमा ने आरोप लगाया कि अतीर ने उन्हें न कोई सामान और न ही मैहर की राशि दी है।

Posted By: Navodit Saktawat