जेएनयू ( Jawaharlal Nehru University) के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) और दो अन्य के खिलाफ देशद्रोह (sedition) का केस चलेगा। दिल्ली सरकार ने मुकदमा चलाने की मंजूरी दे दी है। भाजपा नेता नंदकिशोर गर्ग ने कन्हैया कुमार और अन्य के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाने की न मंजूरी देने का आरोप लगाते हुए दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। हाई कोर्ट ने इस मामले में भाजपा नेता की याचिका खारिज करते हुए कहा था कि नियमों और कानून के आधार पर इस पर फैसला दिल्ली सरकार को लेना है।

हाई कोर्ट से याचिका खारिज होने के बाद भाजपा नेता ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में भाजपा ने इस मामले को उठाया था। भाजपा नेताओं का आरोप था कि दिल्ली सरकार इन आरोपितों पर मुकदमा चलाने की मंजूरी नहीं दे रही है। भाजपा ने आम आदमी पार्टी पर टुकड़े-टुकड़े गैंग का समर्थन करने का आरोप लगाया था। हालांकि आप ने भाजपा के सभी आरोपों से इनकार किया था।

9 फरवरी 2016 को जेएनयू कैंपस में देशद्रोह के नारे लगे थे। कन्हैया कुमार और पूर्व जेएनयू छात्र अनिर्बान और उमर खालिद समेत अन्य लोगों पर देशद्रोह के नारों का समर्थन और जुलूस में शामिल होने का आरोप लगा था। इस सबंध में दिल्ली पुलिस पिछले साल 14 जनवरी को कन्हैया समेत अन्य के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी।

दिल्ली पुलिस की 1200 पन्ने की चार्जशीट में कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य समेत 36 छात्रों का नाम शामिल था। दिल्ली सरकार ने अभी तक मुकदमा चलाने की अनुमति नहीं दी थी।

Posted By: Navodit Saktawat

fantasy cricket
fantasy cricket