कानून के शासन के लिए यह अच्छा नहीं हुआ कि देश की राजधानी में वकीलों और पुलिस के बीच हुई झड़प के बाद पहले वकील अपना विरोध जताने सड़क पर उतर आए और फिर दिल्ली पुलिस के कर्मी। हालांकि वकीलों के विभिन्न् संगठन तो जब-तब अपनी मांगों को लेकर सड़क पर उतरते ही रहते हैं, लेकिन ऐसा बहुत कम देखने को मिला है, जब पुलिस अपनी शिकायत दर्ज कराने सड़कों पर उतरी हो। इससे बड़ी विडंबना और कोई नहीं हो सकती कि बीते मंगलवार सड़क पर उतरकर अपने आक्रोश को प्रकट करने का काम उस दिल्ली पुलिस को करना पड़ा, जो देश की राजधानी का पुलिस बल होने के नाते विशिष्ट स्थान रखती है। सवाल केवल यह नहीं है कि ऐसी नौबत क्यों आई, बल्कि यह भी है कि सड़क पर उतरे पुलिस कर्मियों ने अपने अधिकारियों के आग्रह की अनसुनी क्यों की? यह समझ आता है कि अपने साथ हुए व्यवहार से आहत पुलिस कर्मियों ने अपनी व्यथा बयान करना आवश्यक समझा, लेकिन क्या यह बेहतर नहीं होता कि पुलिस मुख्यालय धरना देने गए पुलिस कर्मी अपनी पीड़ा व्यक्त करने के बाद काम पर लौट जाते? इसमें जो देरी हुई, उससे न केवल अनुशासन संबंधी सवाल उठे, बल्कि पुलिस कर्मियों के प्रति हमदर्दी भी कम हुई। इससे संतुष्ट नहीं हुआ जा सकता कि आखिरकार दिल्ली पुलिस कर्मियों ने अपना धरना खत्म कर दिया, क्योंकि उन कारणों की तह तक जाने और उनका निवारण करने की सख्त जरूरत है, जिनके चलते देश की राजधानी में अप्रिय दृश्य दिखाई दिए। ऐसे दृश्य देश की छवि बिगाड़ते ही हैं।

दिल्ली में वकीलों और पुलिस के झगड़े में किसी एक के पक्ष में खड़ा नहीं हुआ जा सकता, क्योंकि यह मानने के अच्छे-भले कारण हैं कि एक अदालत परिसर में पार्किंग को लेकर हुए झगड़े में दोनों ने ही किसी न किसी न स्तर पर अति की। इस अति में कौन-कितना दोषी है, यह किसी जांच से ही पता चल सकता है। निराशाजनक केवल यह नहीं रहा कि इस झगड़े के बाद ऐसे कदम नहीं उठाए जा सके जिससे वकील भी संतुष्ट होते और पुलिस भी, बल्कि यह भी रहा कि दोनों पक्ष अपने हिसाब से सही-गलत का फैसला करने के लिए दबाव का सहारा लेने लगे। यह न्यायसंगत तरीका नहीं। ऐसे आचरण से विधि के शासन की हेठी ही होती है। दुर्भाग्य यह है कि किसी झगड़े को निपटाने में न्यायसंगत तरीके के अभाव का यह पहला मामला नहीं। कम से कम अब तो यह सुनिश्चित किया ही जाए कि वकील-पुलिस संघर्ष के साथ गुटीय हिंसा की अन्य घटनाओं में कानून अपना काम न केवल मुस्तैदी से करे, बल्कि करता हुआ दिखे भी।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020