नई दिल्ली। सीबीएसई 10वीं और 12वीं के परीक्षा शुल्क की बढ़ोतरी को लेकर खूब चर्चाएं हैं। इसी बीच दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने घोषणा की कि दिल्ली सरकार और सहायता प्राप्त स्कूलों के छात्रों को सीबीएसई 10 वीं और 12 वीं के लिए कोई परीक्षा शुल्क देने की आवश्यकता नहीं है। दिल्ली सरकार द्वारा सीबीएसई के छात्रों की फीस बढ़ोतरी के बोझ को दूर करने निर्णय लिया गया।

सिसोदिया के मुताबिक, 'दिल्ली सरकार और सहायता प्राप्त स्कूलों में छात्रों को सीबीएसई कक्षा 10, 12 की परीक्षा के लिए कोई शुल्क नहीं देना होगा। दिल्ली सरकार छात्रों की सभी श्रेणियों, तौर-तरीकों पर काम कर रही है।'

उन्होंने आगे कहा, 'दिल्ली सरकार फीस वृद्धि को वापस लेने के लिए सीबीएसई के साथ चर्चा करने की प्रक्रिया में है। चाहे जो भी हो, किसी भी बच्चे को रजिस्ट्रेशन फीस का बोझ नहीं उठाना पड़ेगा क्योंकि सरकार उसे वहन करेगी।'

इससे पहले, सीबीएसई ने कक्षा 10 और 12 के परीक्षा शुल्क को संशोधित किया था। सामान्य वर्ग को 1500 रुपए और एससी / एसटी छात्रों को 1200 रुपए का भुगतान करना था। जबकि, पहले यह सामान्य के लिए 750 रुपए और एससी / एसटी छात्रों के लिए 375 रुपए था। जबकि दिल्ली सरकार के स्कूलों के एससी / एसटी छात्रों को केवल 50 रुपए का भुगतान करना होता था जिसमें छात्रों को सब्सिडी के रूप में रिइम्बर्स्ड होता था। इसलिए परीक्षा शुल्क वृद्धि छात्रों के लिए बहुत बड़ा बोझ था और दिल्ली सरकार इसे वापस लाने के लिए सीबीएसई के साथ चर्चा कर रही थी। अंत में, छात्रों को परीक्षा शुल्क का भुगतान करने से छूट दी गई है।

Posted By: Sonal Sharma