UP Board 12th Result: कोरोना काल में बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर सरकार द्वारा 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं को रद्द करने का फैसला लिया गया था। लेकिन इस फैसले के साथ ही एक बड़ी समस्या खड़ी हो गई थी जो कि बच्चों का परीक्षा परिणाम था। बिना परीक्षा के रिजल्ट घोषित करना सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती थी। इसी समस्या के समाधान के लिए एक कमेटी का गठन किया गया था। जो बिना परीक्षा के मूल्यांकन के तरीके को खोज सके। इसे लेकर शिक्षा मंत्री दिनेश शर्मा ने 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के रद्द होने के बाद बताया था कि बोर्ड के छात्रों को अगली कक्षा में भेजने के लिए उनके मूल्यांकन का तरीका जल्द ही जारी किया जाएगा।

जानकारी के अनुसार उत्तर प्रदेश बोर्ड आज 10वीं और 12वीं क्लास के रिजल्ट के लिए मूल्यांकन मानदंड का फाॅर्मूला जारी कर सकता है, जिसके तहत राज्य के समस्त 12वीं परीक्षा के 26 लाख छात्र बिना परीक्षा के ही प्रमोट किए जाएंगे। इसके लिए अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया गया था। इस कमेटी को यह जिम्मेदारी दी गई है कि ये मूल्यांकन का फाॅर्मूला निर्धारित करें। इसके साथ ही यूपी बोर्ड के रिजल्ट को तैयार करने के लिए बोर्ड ने ईमेल के माध्यम से लोगों से सुझाव भी मांगे थे। कमेटी को इसके लिए 10 जून तक का समय दिया गया था।

बतादें कि राज्य के समस्त छात्रों को अंक देने और उनके रिजल्ट को तैयार करने के लिए कमेटी द्वारा तैयार फाॅर्मूले पर अंतिम फैसला पैनल द्वारा लिया जाना है। 12वीं की परीक्षा रद्द करने को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ ने राज्य के मंत्रियों के साथ बैठक कर फैसला लिया था और इसक बाद ट्वीट के माध्यम से जानकारी दी थी कि ‘कोविड-19 महामारी की वर्तमान परिस्थिति के दृष्टिगत बच्चों की स्वास्थ्य सुरक्षा हमारी शीर्ष प्राथमिकता है। प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से यूपी बोर्ड ने निर्णय लिया है कि वर्तमान शैक्षिक सत्र में माध्यमिक शिक्षा परिषद की 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षा का आयोजन नहीं किया जाएगा’’। इसी के साथ 12वीं के लगभग 26 लाख छात्र और 10वीं के लगभग 30 लाख छात्र बिना परीक्षा के आगे प्रमोट किए जाएंगे।

Posted By: Sandeep Chourey