Menu
वर्तमान सांसद

भोला सिंह

भोला सिंह 1967 में पहली बार बिहार विधानसभा सदस्य बने थे। इसके बाद उन्होंने आठ बार विधायक का चुनाव जीता। 1984 में भोला सिंह ने बिहार सरकार में गृह राज्य मंत्री का पद संभाला था। इसके बाद ने राज्य सरकार में फिर दो बार मंत्री और 2003 में बिहार विधानसभा में डिप्टी स्पीकर बने। उन्होंने अपना पहला विधानसभा चुनाव 2009 में जीता था। 19 अक्तूबर 2018 को उनका निधन हो गया। ...

और पढ़ें >
  • जन्मतिथि3 जनवरी 1939 निधन-19 अक्टूबर 2018
  • पदसांसद
  • परिवारपत्नी सविता देवी, 2 बेटी, 3 बेटे
  • शिक्षाडॉक्टरेट पीएचडी
  • व्यवसायसमाज सेवक
  • पति/पत्नी का व्यवसायगृहिणी और किसान

बेगूसराय

  • बीजेपी428,22724.07%
  • राजद369,89220.79%
  • सीपीआई192,63910.83%

 

  • महिला मतदाता828,874
  • पुरुष मतदाता949,825
  • कुल मतदाता1,778,759
  • ज्योतिरादित्य सिंधिया(कांग्रेस)

    भाजपा के शासन में राशन की दुकान पर भ्रष्टाचारी, गरीबी रेखा की लिस्ट में गरीबों के नाम काटे गए। भाजपाइयों के नाम जोड़े गए, मैं तो कहता हूं इन गरीबों के निवालों को छीनने वालों आपको ऊपर वाला भी माफ नहीं करेगा।

  • डॉ. नरोत्तम मिश्रा(भाजपा)

    झूठ और भ्रम की राजनीति करने वाली कांग्रेस अब मीडिया की निष्पक्षता पर भी सवाल करेगी? पर्यटन क्षेत्र में 1 साल में युवाओं को मिली 4.27 करोड़ नई नौकरियां कांग्रेस को नहीं दिखाई देंगी। कांग्रेस को मोदियाबिंद जो हो गया है, इसलिए उन्हें मोदी के विकास की चमक नहीं दिखाई देती।

  • शिवराजसिंह चौहान(भाजपा)

    इनका कहने का अर्थ है, जो कर्मचारी कांग्रेस का चुनाव प्रचार नहीं कर रहे, उन पर कार्रवाई की जाएगी। अगर निष्पक्षता का सवाल है तो चुनाव आयोग में शिकायत करें, आयोग तय करेगा किसके खिलाफ कार्रवाई की जाए! यह कमलनाथ सरकार का कर्मचारियों को धमकाने का और प्रशासन को दबाने का प्रयास है!

  • सुमित्रा महाजन(भाजपा)

    मैंने इंदौर लोकसभा सीट से चुनाव न लड़ने का निर्णय लिया है। भाजपा यहां अपना निर्णय लेने में संकोच कर रही थी। इस फैसले से मैंने पार्टी को चिंता मुक्त कर दिया है।

  • दिग्विजय सिंह(कांग्रेस)

    आरएसएस के खिलाफ बोलने से मेरी ही पार्टी के लोग मना करते हैं..मैं कहता हूं क्यों न बोलूं..क्या इन्होंने ही हिंदुओं का ठेका लिया है..इन ठगों से ज्यादा बेहतर हिंदू तो हम हैं। मुझ पर उंगली उठाने वाले इस बात का जबाव दें..किस-किस ने नर्मदा परिक्रमा की है?

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK