बिजेंद्र बंसल, नई दिल्ली। महाराष्ट्र में संजय निरुपम नाराज हैं तो हरियाणा में पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अशोक तंवर ने टिकट बंटवारे से नाराज होकर पार्टी की सभी समितियों से इस्तीफा दे दिया। यह कांग्रेस की परेशानी जो दोनों राज्यों में चुनाव से ठीक पहले सामने आई है। चुनाव तारीखों के ऐलान के पहले से प्रदेश के वरिष्ठ नेताओं से खफा चल रहे तंवर के सब्र का बांध गुरुवार को टूट गया। उन्होंने मीडियो को संबोधित करते हुए इसका ऐलान किया और कहा- मैंने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र भेज दिया है।

उन्होंने आरोप लगाया कि हरियाणा में कांग्रेस नहीं है बल्कि हुड्डा कांग्रेस है। टिकट बंटवारे में जो कुछ हुआ, उसे वह दोहराना नहीं चाहते। वह साधारण कार्यकर्ता के रूप में पार्टी के लिए काम करना चाहते हैं।

इससे पहले अशोक तंवर ने बुधवार को पार्टी मुख्यालय के सामने अपने समर्थकों के सामने सोहना विधानसभा क्षेत्र में एक प्रत्याशी से 5 करोड़ रुपए में टिकट का सौदा किए जाने का आरोप लगाया था। हालांकि अब तंवर के नजदीकी बता रहे हैं कि पार्टी ने उस नेता को टिकट नहीं दिया है।

तंवर का पूरा बयान

'एक साल पहले मेरी और कार्यकर्ताओं की मेहनत से पार्टी हरियाणा में सरकार बनाने के करीब पहुंच गई थी, लेकिन हमारे कुछ महत्वाकांक्षी नेताओं ने इस मेहनत पर पानी फेर दिया। पिछले एक साल में इन नेताओं के कारण पार्टी की स्थिति बदतर होती चली गई। अभी तक किसी नेता ने मुझे चुनाव प्रचार के लिए अधिकृत तौर पर नहीं बुलाया है। शायद किसी को हमारी जरूरत नहीं है। हां, यदि पार्टी हाईकमान का आदेश होगा तो उसका पालन अवश्य करेंगे।'

कुमारी सैलजा का जवाब

तंवर के आरोपों पर प्रदेश अध्यक्ष कुमार सैलजा ने जवाब दिया। उन्होंने कहा, 'तंवर ने दो दिन में जो आरोप लगाए हैं वे निराधार हैं। कांग्रेस के टिकट वितरण को लेकर यदि उन्हें कुछ कहना है तो वे चुनाव समिति की बैठक में आकर कहें। वे चुनाव समिति की बैठक में आए नहीं और अब खुलेतौर पर ऐसी बातें कह रहे हैं, यह गलत है। हाईकमान की सब पता है।'

Posted By: Arvind Dubey

fantasy cricket
fantasy cricket