रांची। इस साल के आखिरी में होने वाले झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने प्रदेश नेतृत्व में बदलाव किया है। कांग्रेस ने एक बार फिर मुस्लिम-आदिवासी कार्ड खेलते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर पूर्व केंद्रीय मंत्री रामेश्वर उरांव का चुनाव किया है। उरांव के नाम पर लंबे समय तक विचार करने के बाद मुहर लगाई गई है।नई व्यवस्था की खास बात यह भी रही कि नए अध्यक्ष की शक्तियोंं को सीमित करते हुए कांग्रेस ने 5 कार्यकारी अध्यक्षों को मनोनीत किया है।

इसलिए उरांव के नाम पर लगी मुहर

झारखंड में जिले से लेकर केंद्र तक की राजनीति में शामिल रहे डॉ. रामेश्वर उरांव को अपनी शालीनता और अनुभव का फायदा मिला। उरांव की छवि मृदुभाषी नेता की है। हालांकि इस छवि का नुकसान उन्हें पिछले लोकसभा चुनाव में झेलना पड़ा था जब उन्हें टिकट से वंचित कर दिया गया था। चाहकर भी टिकट कटने का उन्होंने व्यापक विरोध नहीं किया था और न ही समर्थकों को सार्वजनिक तौर पर विरोध करने की इजाजत दी थी।

उरांव का राजनीतिक जीवन

ये हैं पांच कार्यकारी अध्यक्ष

केशव महतो कमलेश, डॉ. इरफान अंसारी, राजेश ठाकुर, मानस सिन्हा और संजय पासवान। अब सुबोधकांत सहाय ने भी इस सूची पर मौन सहमति दे दी। सहाय पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार के खिलाफ मोर्चा खोले हुए थे और उन्होंने अपनी दावेदारी भी पेश की थी लेकिन उन्हें अंतिम समय में मना लिया गया।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020