Jharkhand : झारखंड विधानसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन करने के बाद झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) ने हेमंत सोरेन को विधायक दल का नेता चुन लिया। अब सोरेन 29 दिसंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। समारोह रांची के मोरहाबादी मैदान में होगा। इस मौके पर कई दिग्गज राजनेताओं के मौजूद रहने की संभावना है। सोरेन बुधवार को दिल्ली जाकर कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांंधी से मिलेंगे और उन्हें शपथ ग्रहण कार्यक्रम के लिए आमंत्रित करेंगे। इसी तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी न्योता दिया जाएगा।

इससे पहले मंगलवार को हेमंत सोरेन ने 50 विधायकों का समर्थन पत्र राजभवन जाकर राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को सौंपा। इस मौके पर उनके साथ विधायकों के अलावा झामुमो प्रमुख शिबू सोरेन, कांग्रेस पर्यवेक्षक टीएन सिंहदेव, प्रदेश कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह, सह प्रभारी उमंग सिंघार, कांग्रेस नेता अजय शर्मा भी मौजूद थे।

इससे पहले झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) विधायक दल की बैठक में हेमंत सोरेन को नेता चुनने की घोषणा की गई। झामुमो प्रमुख शिबू सोरेन के आवास पर हुई इस बैठक में दल के सारे 30 विधायक मौजूद थे। इसके बाद शाम 5 बजे कांग्रेस विधायक दल की बैठक आलाकमान द्वारा नियुक्त पर्यवेक्षक टीएस सिंहदेव की मौजूदगी में हुई। इस बैठक में आलमगीर आलम सर्वसम्मति से कांग्रेस विधायक दल के नेता चुने गए।

मंत्री बनने के लिए शुरू हुई दौड़ : हेमंत सोरेन मंत्रिमंड में जगह बनाने के लिए मंगलवार को कवायद तेज रही है। उनकी कैबिनेट में झामुमो कोटे से पांच, कांग्रेस से पांच और राजद से एक मंत्री के शामिल होने की संभावना है। इसे लेकर अटकलों का बाजार भी गर्म रहा। मंत्री पद को लेकर आलमगीर आलम, रामेश्वर उरांव, राजेंद्र प्रसाद सिंह, बन्ना गुप्ता आदि का नाम लिया जा रहा है। इसके अलावा अन्य विधायकों ने भी अपने संपर्क सूत्रों को खंगाला है। झारखंड मुक्ति मोर्चा का शीर्ष नेतृत्व अपेक्षाकृत युवा विधायकों को जिम्मेदारी देने के पक्ष में है।

Posted By: Arvind Dubey

fantasy cricket
fantasy cricket