चंडीगढ़ः अमृतसर व गुरदासपुर लोकसभा सीटों पर इस बार मुकाबला काफी रोचक हो सकता है। भाजपा की नजरें भी इन सीटों पर टिकी हैं। ये वो सीटें हैं जो जहां हाई प्रोफाइल चुनाव देखने को मिलेगा। इस बीच यह संकेत मिलने शुरू हो गए हैं कि गुरदासपुर में भाजपा के प्रदेश प्रधान व सांसद सुनील जाखड़ के सामने भाजपा अक्षय खन्ना को उतार सकती है। अक्षय भाजपा का झंडा थाम अपने स्वर्गीय पिता विनोद खन्ना की राजनीतिक विरासत को संभाल सकते हैं।

गुरदासपुर से चार बार सांसद रह चुके स्वर्गीय विनोद खन्ना की राजनीतिक विरासत को संभालने के लिए भाजपा उनके बेटे को जिम्मेदारी सौंपने सकती है। माना जा रहा है कि भाजपा ने अमृतसर और गुरदासपुर सीट को लेकर पैनल शॉर्ट लिस्ट कर लिया है। हालांकि, इस सीट से विनोद खन्ना की पत्नी कविता खन्ना भी दावा कर रही हैं, लेकिन भाजपा अक्षय को ही तरजीह दे रही है।

अक्षय खन्ना ने डॉ. मनमोहन सिंह के ऊपर बनी फिल्म 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' में प्रधानमंत्री के मीडिया सलाहकार संजय बारु का किरदार निभाया था। भाजपा का मानना है कि अक्षय अगर गुरदासपुर से चुनाव लड़ते हैं तो इस सीट पर उन्हें अपने पिता की राजनीतिक कद का लाभ मिल सकता है। वहीं, नया चेहरा होने के कारण उनको लेकर कोई मनमुटाव भी नहीं होगा।

वहीं, चर्चा इस बात को लेकर भी है कि भाजपा अमृतसर से केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के राज्य मंत्री हरदीप पुरी को चुनाव मैदान में उतार सकती है। दिल्ली के जन्मे हरदीप पुरी का भले ही पंजाब के कोई सीधा वास्ता न हो, लेकिन भाजपा उन्हें सिख चेहरे के तौर पर अमृतसर से उतार सकती है। इस सीट के लिए पहले भाजपा सनी देओल को उतारने का भी मन बना रही है। पूर्व नौकरशाह हरदीप पुरी पिछले दिनों अमृतसर में खासे सक्रिय रहे हैं।

वहीं, अमृतसर सीट से पूर्व मंत्री अनिल जोशी भी दावा ठोक रहे हैं। भाजपा इसलिए भी हरदीप पुरी को तरजीह दे रही हैं, क्योंकि न सिर्फ वह सिख चेहरा हैं, बल्कि नया चेहरा होने के कारण उनके नाम पर कोई टीका-टिप्पणी भी नहीं होगी। कांग्रेस भी भाजपा के इंतजार में कांग्र्रेस भी इस इंतजार में है कि भाजपा गुरदासपुर और अमृतसर को लेकर अपने पत्ते खोले। हालांकि, गुरदासपुर से सुनील जाखड़ का चुनाव लड़ना तय माना जा रहा है। अमृतसर सीट से भले ही कांग्र्रेस के गुरजीत औजला सांसद हों, लेकिन माना जा रहा है कि कांग्रेस उनकी टिकट काट सकती है।

Posted By: