नई दिल्ली। भाजपा 2014 से भी बड़ी जीत की तरफ बढ़ रही है। तब भाजपा को 282 सीटें मिली थीं, जो बीजेपी का ऑल टाइम हाई रिकॉर्ड था। भाजपा ने कभी भी इतनी बड़ी संख्या में सीटें नहीं जीती थीं। जबकि इस बार शुरूआती रुझानों में ही भाजपा को 301 सीटें अपने दम पर मिलती दिख रही हैं। यह पहली बार होगा, जब भाजपा 300 के आंकड़े को छुएगा। यानी पिछले चुनाव से भी बेहतर प्रदर्शन कर रही है भाजपा।

उत्तराखंड की पांच में से पांच सीटें, दिल्ली की 7 में से 7 सीटें, हरियाणा की 10 में 10, राजस्थान की 25 में से 25 और मध्य प्रदेश की 29 में से 29 सीटों पर भाजपा आगे चल रही है। यानी इन राज्यों में भाजपा ने क्लीन स्वीप किया है। भाजपा उत्तर प्रदेश और बिहार में अच्छा प्रदर्शन कर रही है। अभी तक सभी 542 सीटों के रुझान सामने आ चुके हैं। भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए को 350 सीटें मिलती दिख रही हैं। इसमें अकेले भाजपा को 302 सीटों पर बढ़त मिलती नजर आई। वहीं राहुल गांधी के नेतृत्व में यूपीए को 85 सीटें ही मिलती दिख रही हैं।

मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में ये राज्य भाजपा के हाथ से निकल गए थे। माना जा रहा था कि इसका असर लोकसभा चुनाव पर भी पड़ेगा। हालांकि रुझानों ने साफ कर दिया है कि इन राज्यों में भाजपा ने जबरदस्त वापसी की है।

जिन सीटों पर पूरे देश की नजर है, उनमें नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी भी शामिल है। वह इस सीट पर डेढ़ लाख मतों से आगे चल रहे हैं। इस बार भी मोदी के सामने कांग्रेस ने अजय राय को उतारा था। हालांकि, पहले यहां से प्रियंका गांधी को उतारे जाने की चर्चा चल रही थी, लेकिन मोदी लहर को देखते हुए पार्टी ने उन्हें यहां से चुनाव नहीं लड़ने को कहा था।

साल 2014 में मोदी यहीं से जीत हासिल कर प्रधानमंत्री बने थे। तब उन्होंने कांग्रेस के अजय राय को 5 लाख से ज्यादा वोटों से हराया था। आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष अरविंद केजरीवाल तीसरे नंबर पर रहे थे। बता दें, वाराणसी में 19 मई को मतदान हुआ था। मोदी ने अपनी पार्टी के लिए देशभर में प्रचार किया था, इसलिए काशी में कम समय दे पाए थे। उन्होंने 25 अप्रैल को रोड शो किया था, जिसमें मिले जनसमर्थन ने मोदी और पार्टी दोनों को अभिभूत कर दिया था। तभी तय हो गया था कि मोदी को एक बार फिर काशी की जनता आशीर्वाद मिलने जा रहा है।

जानिए लोकसभा चुनावों में भाजपा का कैसा रहा है प्रदर्शन...

2014 - 282 सीटें

2009- 116 सीटें

2004 - 138 सीटें

1999 - 182 सीटें

1996 - 161 सीटें

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai