भोपाल। आम आदमी पार्टी (आप) विधानसभा चुनाव में खराब प्रदर्शन के कारण लोकसभा चुनाव में मध्यप्रदेश से किनारा कर गई है। आप नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव में अपने प्रत्याशियों को उतारेगी और लोकसभा चुनाव में गैर भाजपा प्रत्याशियों को वोट करने के लिए लोगों को प्रेरित करेगी। आप के 3000 नेता-कार्यकर्ता दिल्ली में लोकसभा चुनाव के पार्टी प्रत्याशियों के पक्ष में प्रचार करने जाएंगे।

आप को विधानसभा चुनाव 2018 में मतदाताओं ने नकार दिया था। इसके बाद पार्टी ने भोपाल और दिल्ली में समीक्षा की तथा यह फैसला लिया कि लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी नहीं उतारे। इसमें यह तय किया गया कि प्रदेश में लोकसभा चुनाव के बाद होने वाले नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव में पार्टी पूरी दमखम के साथ लड़ेगी। इसके लिए अपने संगठन को नया रूप दिया गया है।

आप के प्रदेश अध्यक्ष आलोक अग्रवाल के नेतृत्व में नई कार्यकारिणी बनाई गई है। 64 पदाधिकारियों की कार्यकारिणी में तीन उपाध्यक्ष, तीन संगठन मंत्री, छह संगठन सचिव शामिल हैं। 15 सदस्यों की पॉलिटिकल अफेयर कमेटी और तीन सदस्यों की अनुशासन समिति बनाई है। सोशल मीडिया में सचिव और सह सचिव की नियुक्ति की गई है।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020