विदिशा। विदिशा संसदीय क्षेत्र से पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह को टिकट दिलाने के लिए शिवराज समर्थक सक्रिय हो गए हैं। इस बार खेल परदे के पीछे का नहीं है, बल्कि शिव समर्थक खुलकर सामने आ गए हैं। जो दिल्ली में डेरा जमाए हैं। इनका प्रयास है कि विदेश मंत्री व क्षेत्रीय सांसद सुषमा स्वराज और केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह का समर्थन मिल जाए तो टिकट मिलने में आसानी हो जाएगी।

भाजपा केंद्रीय नेतृत्व के सूत्र बताते हैं कि सुषमा स्वराज के चुनाव लड़ने से इनकार करने के बाद विदिशा जैसी आसान सीट पर किसी वरिष्ठ नेता को मैदान में उतारा जाएगा। यह बाहरी भी हो सकता है। इसका कारण यह है कि मध्यप्रदेश की विदिशा सीट से ज्यादा आसान सीट भाजपा के पास दूसरी नहीं है। यह सीट भाजपा का गढ़ है। साधना की दावेदारी जताने का मामला पहली बार नहीं हुआ है।

इसके पहले भी 2006 के उपचुनाव, 2009 और 2014 में भी शिव समर्थक साधना सिंह को टिकट दिलाने के लिए जोर लगाते रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक छिपी दावेदारी पर इनको नागपुर स्थित संघ कार्यालय की नाराजगी भी झेलनी पड़ी है। परदे के पीछे भले ही मंशा स्पष्ट हो, लेकिन सामने आने पर शिवराज और साधना सिंह टिकट की दावेदारी से इनकार करते रहे हैं।

मंगलवार को केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक निर्धारित थी। इसलिए भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने विदिशा-रायसेन संसदीय क्षेत्र के लगभग 70 नेताओं को दिल्ली ले जाने की योजना बनाई। विदिशा जिले के 12 से अधिक नेता सोमवार की रात भोपाल एक्सप्रेस से दिल्ली रवाना हुए।

इनमें शमशाबाद विधायक राजश्री सिंह, बासौदा विधायक लीना जैन, कुरवाई विधायक हरिसिंह सप्रे सहित रायसेन, सीहोर और देवास जिलों के कुछ भाजपा विधायकों सहित विदिशा नपाध्यक्ष मुकेश टंडन, जिला पंचायत अध्यक्ष तोरणसिंह दांगी, भाजपा जिलाध्यक्ष राकेश जादौन, मंजरी जैन आदि शामिल थे।

अन्य क्षेत्रों के लोग भी ट्रेन और फ्लाइट से दिल्ली पहुंचे। मंगलवार को पूर्व सीएम श्री चौहान के करीबी पूर्व मंत्री रामपालसिंह, लोकसभा क्षेत्र प्रभारी शिव चौबे और सह प्रभारी सुरेंद्र तिवारी के साथ सभी नेता सबसे पहले विदेश मंत्री व क्षेत्रीय सांसद सुषमा स्वराज के निवास पर पहुंचे।

इसके बाद गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मिले। दोनों वरिष्ठ नेताओं से साधना का समर्थन करने का आग्रह किया। लॉबिंग कर रहे नेताओं का दावा है कि दोनों वरिष्ठ नेताओं ने साधना सिंह के नाम पर हामी भर दी है। इसके अलावा इन नेताओं ने राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री सौदान सिंह, प्रदेश भाजपा प्रभारी विनय सहस्त्रबुद्धे भी मुलाकात की है।

Posted By: