भोपाल। लोकसभा चुनाव में मतगणना के पहले कांग्रेस ने अपने सभी प्रत्याशियों की बुधवार को विशेष बैठक बुलाई है। इसमें मतगणना के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में टिप्स दी जाएगी। बैठक में पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ और प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी महासचिव दीपक बाबरिया भी शामिल होंगे।

कांग्रेस ने इस बार कई बार ऐसे नए चेहरे लोकसभा चुनाव में उतारे हैं, जिन्हें चुनाव लड़ने का अनुभव नहीं है। इनमें भिंड के देवाशीष जरारिया, टीकमगढ़ की किरण अहिरवार, रीवा के सिद्धार्थ तिवारी, छिंदवाड़ा के नकुलनाथ, देवास के प्रहलाद टिपानिया, खरगोन के डॉ. गोविंद मुजाल्दा, धार के दिनेश गिरवाल और बैतूल के रामू टेकाम शामिल हैं। कुछ प्रत्याशी ऐसे भी हैं, जिन्हें नगरीय निकाय, जिला-जनपद पंचायतों के चुनाव का अनुभव है। मगर लोकसभा चुनाव इन सबसे बहुत अलग है और बड़ा क्षेत्र होता है।

सूत्र बताते हैं कि लोकसभा चुनाव में मतगणना में गड़बड़ियों को पकड़ने के लिए कांग्रेस ने नए चेहरों के साथ ही अन्य प्रत्याशियों को भी टिप्स देने के लिए विशेष बैठक बुलाई है। इसमें बताया जाएगा कि मतगणना में कौन और किस तरह की गड़बड़ियां हो सकती हैं। इन्हें पकड़ने के लिए प्रत्याशियों को अपने एजेंटों को क्या बताना होगा और उन्हें क्या करना होगा।

तीन महीने बाद आए बाबरिया

बाबरिया तीन महीने बाद मप्र आए हैं। उनकी 20 फरवरी को तबीयत बिगड़ गई थी और एयर एंबुलेंस से उन्हें दिल्ली ले जाया गया। वहां काफी समय तक अस्पताल में इलाज कराते रहे और फिर डॉक्टरों की सलाह पर गृह नगर अहमदाबाद में आराम किया। इस बीच प्रत्याशी चयन प्रक्रिया की कई बैठकों में नहीं पहुंचे और चुनाव प्रचार से पूरी तरह से दूर रहे।

मतगणना संबंधी बैठक

पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ ने लोकसभा प्रत्याशियों की बैठक बुलाई है। ताकि मतगणना के पहले उस प्रक्रिया में बरती जाने वाली सावधानियों से उन्हें अवगत कराया जा सके।

- दीपक बाबरिया, कांग्रेस महासचिव और मप्र कांग्रेस प्रभारी

Posted By: Hemant Upadhyay