मुंबई। बीस साल बाद गुरुवार को महाराष्ट्र में फिर शिवसेना के नेतृत्व में गठबंधन सरकार कमान संभाल लेगी, लेकिन इस बार 'सरकार खुद पार्टी प्रमुख होंगे। दूसरी बार सीएम बनने के बाद 81 घंटे में बिदा हुए देवेंद्र फड़नवीस की जगह उनसे 10 साल बड़े 59 वर्षीय उद्धव ठाकरे गुरुवार शाम 6.40 बजे शिवाजी पार्क में शपथ लेंगे। इस बीच राकांपा से बगाावती तेवर दिखाकर भाजपा से हाथ मिलाने व फिर लौटने वाले अजीत पवार बुधवार को पार्टी विधायकों की बैठक में पहुंचे। उनके उद्धव सरकार में भी डिप्टी सीएम बनने के आसार है। इससे पहले बुधवार शाम को बारामती में अजीत पवार के घर के बाहर एसीपी के कार्यकर्ताओं ने पोस्टर लगाए हैं, जिसमें यह लिखा गया है कि आपको क्या करना चाहिए और क्या नहीं। पूरा प्रदेश आपकी और भविष्य के सीएम की तरह देख रहा है।

इन नेताओं को भेजा आमंत्रण

शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे के शपथविधि समारोह में शिरकत करने के लिए सोनिया गांधी, दिल्ली के सीएम केजरीवाल, डीएमके नेता स्टालिन को आमंत्रण भेजा गया है।

2 हजार पुलिसकर्मी होंगे तैनात

मुंबई पुलिस ने जानकारी देते हुए बताया कि कल महाराष्ट्र सीएम के रूप में उद्धव ठाकरे शपथ ग्रहण करने जा रहे हैं। इस समारोह के लिए शिवाजी पार्क में लगभग 2000 पुलिस कर्मियों को तैनात किया जाएगा।

जोशी, राणे के बाद उद्धव सीएम

महाराष्ट्र में पहली शिवसेना-भाजपा गठबंधन सरकार 1995 में बनी थी। तब पहले मनोहर जोशी सीएम बने थे, लेकिन 1999 में उनकी जगह नारायण राणे को सीएम बनाया गया था। यह पहला मौका है जब शिवसेना प्रमुख स्वयं 'सरकार" बनने जा रहे हैं। जबकि 1995 में उनके पिता बाल ठाकरे ने रिमोट अपने हाथ में रखकर सरकार चलाई थी।

मंत्रिमंडल में शामिल करने का फैसला उद्धव करेंगे : अजीत

अटकलें हैं कि अजीत पवार महाराष्ट्र में बने नए गठबंधन 'महा विकास अघाड़ी की सरकार में भी उप-मुख्यमंत्री बनेंगे। वह बुधवार को विधान भवन में हुई राकांपा विधायक दल की बैठक में पहुंचे। मराठा क्षत्रप शरद पवार की सांसद बेटी सुप्रिया सुले व रोहित पवार ने उन्हें बधाई दी। अजीत ने विधायकों को विभिन्न् मसलों की जानकारी दी। बैठक में 12 दिसंबर को राकांपा प्रमुख शरद पवार के 80वें जन्मदिन को भव्य पैमाने पर मनाने पर भी विचार हुआ। अजीत ने कहा कि उन्हें मंत्री बनाने का फैसला उद्धव ठाकरे पर निर्भर करेगा। उन्होंने साफ कहा, 'मैंने राकांपा से बगावत नहीं की थी। मैं पहले भी पार्टी में था, अब भी हूं और आगे भी रहूंगा। मुझे पार्टी ने निकाला नहीं था।

285 विधायकों ने ली शपथ

महाराष्ट्र की 14वीं विधानसभा के विशेष सत्र में बुधवार को प्रोटेम स्पीकर कालीदास कोलंबकर ने 288 में 285 नवनिर्वाचित विधायकों को शपथ दिलाई। तीन सदस्य सदस्य नहीं ले सके। ज्ञात हो कि विस चुनाव के नतीजे 24 अक्टूबर को ही आ गए थे, लेकिन एक माह तक कोई सरकार नहीं बन पाने के कारण शपथ भी नहीं दिलाई जा सकी थी। राज्य में 12 से 23 नवंबर तक राष्ट्रपति शासन लगा रहा। विस को निलंबित रखा गया था। 23 नवंबर को अचानक राष्ट्रपति शासन हटाने के बाद देवेंद्र फड़नवीस को सीएम व अजीत पवार को डिप्टी सीएम की शपथ दिला दी गई थी। हालांकि 26 नवंबर को अजीत पलट गए और इस्तीफा देकर फिर राकांपा खेमे में चले गए थे। इसलिए फड़नवीस को भी चार दिन में पद छोड़ना पड़ा। इसके बाद शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस ने सरकार बनाने का दावा पेश किया और उद्धव ठाकरे को नया मुख्यमंत्री चुन लिया गया।

कांग्रेस को 12 मंत्री पद, कई दिग्गज बनेंगे मंत्री

उद्धव ठाकरे के साथ राकांपा व कांग्रेस के 12-12 नेताओं को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई जा सकती है। कांग्रेस के कई दिग्गज मंत्री बन सकते हैं। इनमें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहब थोरात, पूर्व सीएम विलासराव देशमुख के पुत्र अमित देशमुख, पूर्व सीएम अशोक चव्हाण, पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष नितिन राउत, किसान कांग्रेस प्रमुख नाना पाटोले व उनके अलावा विश्वजीत कदम, असलम शेख व वर्षा गायकवाड़ के नाम शामिल हैं।

पृथ्वीराज चव्हाण स्पीकर?

कांग्रेस विधानसभा स्पीकर पद की भी दावेदारी कर रही है। माना जा रहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण को स्पीकर बनाया जाएगा। सूत्रों ने बताया कि ठाकरे के नेतृत्व में सरकार बनने के बाद स्पीकर का चुनाव कराने व उसके लिए प्रत्याशी तय करने का फैसला होगा।

अजीत के मामले में उपयुक्त समय पर बोलूंगा : फड़नवीस

इस बीच कार्यवाहक सीएम देवेंद्र फड़नवीस ने कहा है कि वह अजीत पवार द्वारा भाजपा को सरकार बनाने के समर्थन देने के बारे में उपयुक्त समय पर बोलेंगे। शपथ लेने विधान भवन पहुंचे फड़नवीस से पत्रकारों ने इस बारे में सवाल किए थे।

Posted By: Navodit Saktawat

fantasy cricket
fantasy cricket