ममता बनर्जी के खिलाफ चुनाव आयोग कार्रवाई कर सकता है। ममता ने नंदीग्राम वोटिंग को लेकर जो आरोप लगाए थे, वे बेबुनियाद साबित हो गए हैं। इस पर चुनाव आयोग ने बनर्जी को लेकर सख्‍त टिप्‍पणी भी की है।निर्वाचन आयोग ने बंगाल के नंदीग्राम चुनाव (दूसरा चरण) में मतदान के दौरान एक पोलिंग बूथ पर बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के गड़बड़ी के आरोपों को खारिज कर दिया है। साथ ही निर्वाचन आयोग ने रविवार को छह पन्नों में ममता को जवाब देते हुए कहा है कि उनकी शिकायत तथ्यों से परे है। इस मामले में निर्वाचन आयोग ने कहा है, यह गहरे खेद का विषय है कि मुख्यमंत्री पद पर बैठे शख्स और उम्मीदवार ने मीडिया के जरिए मतदाताओं को कई घटे तक गुमराह किया। यह सब उस वक्त हुआ जब चुनावी प्रक्रिया चल रही थी। इससे बुरा आचरण नहीं हो सकता था। आयोग ने संकेत दिए हैं कि उनके खिलाफ आदर्श आचार संहिता उल्लंघन और जनप्रतिनिधित्व कानून की धाराओं में कार्रवाई हो सकती है। ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में एक सरकारी स्कूल में बने पोलिंग बूथ नंबर सात पर गड़बड़ी के आरोप लगाए थे। आयोग ने इस पर जवाब दिया है। ड्यूटी पर तैनात पैरा मिलिट्री फोर्स के जवान ना तो बूथ के अंदर गए ना ही किसी मतदाता को अंदर जाने से रोका।

आयोग ने सुबह साढ़े पांच बजे मॉक ड्रिल, फिर सात बजे मतदान की शुरुआत से लेकर मतदान खत्म होने तक का सिलसिलेवार ब्योरा दिया है। आयोग ने ममता के आरोपों को खारिज करते हुए सीसीटीवी फुटेज का हवाला देते हुए कहा है कि पूरी वोटिंग के दौरान भाजपा, सीपीएम और एक निर्दलीय कैंडिडेट के एजेंट बूथ के अंदर थे। संभावित कार्रवाई पर अलग से जांच जारी आयोग ने कहा, इस बात की अलग से जांच की जा रही है कि क्या एक अप्रैल की घटनाओं में जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 131 और 123 (2) या आदर्श आचार संहिता के तहत कोई कार्रवाई हो सकती है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags