बॉलीवुड स्टार Mithun Chakraborty भले ही आज फिल्मों में ज्यादा काम नहीं कर रहे हों लेकिन आज भी फिल्मी दुनिया उन्हें मिस करती हैं। आज भी लोगों के दिलों में वह बसते हैं और उनकी डांसिंग स्टाइल कॉपी करने का मजा लूटते हैं। लेकिन मिथुन की जिंदगी हमेशा से इतनी सफल नहीं थी। बहुत तकलीफों से भरी थी। मिथुन कोलकाता से मुंबई फिल्मों में हीरो बनने के लिए आए थे। फिल्मों में कुछ काम पाने के लिए वे जानेमाने फिल्ममेकर मनमोहन देसाई के ऑफिस पहुंचे। उन्होंने फिल्मों में कोई भी छोटे-मोटे रोल पाने के लिए गुजारिश की ताकि वह अपना गुजारा कर सकें। लेकिन मनमोहन देसाई ने मिथुन को 10 रुपए दे दिए और जाने के लिए कहा।

इस व्यवहार ने मिथुन को आहत कर दिया। उन्हें बहुत बुरा लगा और फिल्मों में सफल होने का मन बना लिया। उस दिन के बाद से उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

मिथुन ने आर्ट ड्रामा मृगया (1976) से अपने अभिनय की शुरुआत की और इसके लिए उन्होंने सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के रूप में अपना पहला राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीता था। हाल ही में KBC में भी इस फिल्म और मिथुन से जुड़ा सवाल पूछा गया था।

मिथुन को 1982 की फिल्म डिस्को डांसर में अपने रोल के लिए याद किया जाता है जो कि भारत में कमर्शियल रूप से सफल कही और सोवियत संघ और रूस में भी काफी चली। बता दें कि रूस में मिथुन और राज कपूर सबसे लोकप्रिय भारतीय अभिनेता रहे हैं। मिथुन ने अब तक 350 से ज्यादा फिल्में की है। मिथुन चक्रवर्ती को सबसे ज्यादा उनकी फिल्मों सुरक्षा, साहस, वारदात, बॉक्सर, प्यारी बहना, प्रेम प्रतिज्ञा, मुजरिम और अग्निपथ में सराहा गया।

उन्होंने हिंदी फिल्मों के अलावा बंगाली, उड़िया, भोजपुरी, तमिल, तेलुगु, कन्नड़ और पंजाबी फिल्मों में भी एक्टिंग की है।

मिथुन चक्रवर्ती के नाम कई ऐसे रिकॉर्ड है, जिन्हें अब तक किसी ने नहीं तोड़ा। साल 1998 में उन्होंने 19 फिल्में की थी जिसमे से 18 उसी साल रिलीज हुई थी।

Posted By: Sonal Sharma