1 जून 2017 को Sushant Singh Rajput जब अपनी फिल्म 'राब्ता' के प्रचार के लिए Indore आए थे तो उन्होंने कहा था कि वो अपनी Biopic में खुद ही काम करना चाहेंगे। थियेटर से टेलीविजन और फिर फिल्म इंडस्ट्री में स्टार बनने वाले अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने कहा था ''अब इच्छा है कि कोई मुझ पर ही बॉयोपिक बनाए और उसमें मेरा रोल भी मैं ही निभाऊं।''

वैसे सुशांत के सफर में वाकई बायोपिक के कई मसाले थे। इसके बारे में उन्होंने कहा था ''18 साल की उम्र में इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़ने का निर्णय लिया था। 2006 में कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान ऐश्वर्या राय के पीछे नाचा था। मैंने कल के बारे में कभी नहीं सोचा और आज को ही जिया। जिसमें मुझे खुशी मिलती है वही मैं करूं... यही सोच रखी।''

कुछ समय में ही 54 किरदार निभा चुके सुशांत सिंह का कहना था था ''पढ़ाई पर फोकस इसलिए किया ताकि मैं पहचान बना सकूं और डांस से एक्टिंग तक का सफर भी इसीलिए चुना ताकि संतुष्ट भाव से जी सकूं। यही वजह है कि अब तक फिल्म, टेलीविजन और थियेटर पर 54 किरदार निभाए हैं।''

उन्होंने माना था कि वे हमेशा ऐसा किरदार ही चुनते हैं जिन्हें निभाना चुनौतीपूर्ण हो। वो कहते थे ''जिस किरदार के लिए लगता है कि इसे निभाना मेरे लिए मुश्किल है मैं हामी भर देता हूं। मेरे गुरु ने मुझे यह बात समझाई थी कि एक एक्टर के लिए खुद को ही सहमत करना बहुत जरूरी है। जब बात करियर चुनने की आई तो मेरे निर्णय में फेल होने की आशंका ज्यादा थी पर मैं मानता हूं कि नाकामयाबी भी जरूरी है क्योंकि नाकामयाबी ही संकेत है भविष्य की कामयाबी का। सफलता मिलना इसलिए जरूरी है क्योंकि वो हमें बताती है कि अब करना क्या है।''

Posted By: Sudeep Mishra

  • Font Size
  • Close