Happy Birthday Ayushmann Khurrana: एक के बाद एक लगातार छह हिट देने वाले आयुष्मान खुराना का आज 35वां जन्मदिन है। इस शुक्रवार रिलीज हुई फिल्म 'ड्रीम गर्ल' को जैसा रिस्पॉन्स मिल रहा है, उससे लग रहा है कि यह फिल्म हिट होने के लिए तैयार है। आखिर ऐसा क्या है आयुष्मान की फिल्मों में जिसे कोई नजरअंदाज नहीं कर सकता और बॉक्स ऑफिस पर छा जाना तय होता है।

शूजीत सिरकार के 'विक्की डोनर' के साथ अपनी शुरुआत की, खुराना बॉलीवुड एक्टर बन गए। बेवकूफियां और हवाईजादा जैसे कुछ फ्लॉप फिल्मों के बाद, उन्होंने 'दम लगा के हईशा' के साथ फिर से अपने पैर जमा लिए और तब से उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा। नेशनल अवॉर्ड विनर आयुष्मान को उन स्क्रिप्ट्स को खोजने की आदत है, जिसमें जरूरी नहीं कि मेनस्ट्रीम सिनेमा का कंटेंट हो। कुछ अनोखा करने की इस प्रोसेस में, आयुष्मान ने एक ब्रांड बनाया है जो भीड़ से अलग है।

आयुष्मान की हालिया रिलीज 'ड्रीम गर्ल' भी कुछ ऐसी ही है और इस फिल्म में उनका लेडी अवतार पूजा को देखकर खुद फिल्मी सितारों ने उन्हें 'Bravest Actor' का खिताब दे दिया। अपने 7 साल के करियर में उन्होंने 11 फिल्में की और उनकी अधिकांश फिल्मों में ये पांच चीजें दिखाई दी।

मजबूत कलाकारों की कास्ट

खुराना एक प्रभावशाली अभिनेता हैं लेकिन अब हम उस फेज़ से परे हैं जहां सुपरस्टार अपने कंधों पर अकेले में एक फिल्म ले सकते हैं। आयुष्मान की अधिकांश फिल्मों की सफलता के लिए महान कलाकारों की कास्ट भी शामिल है। चाहे वह बधाई हो या बरेली की बर्फी हो, आयुष्मान के शानदार काम ने हमारा ध्यान खींचा क्योंकि उन्हें कई मजबूत अभिनेताओं का सपोर्ट मिला था।

लिक से हटकर विषय

पिछले सात सालों में आयुष्मान खुराना का जैसे लिक से हटकर विषय चुनना पर्याय बन गया है। एक किरदार जो स्पर्म डोनेट करता हो, या कोई ऐसा व्यक्ति जो दृष्टिहीन संगीतकार होने का नाटक कर रहा हो, आयुष्मान को अनोखे विषय मिलते हैं जो एक शानदार कहानी बनाते हैं और इसने अब तक ज्यादातर उनके पक्ष में काम किया है। उनकी फिल्में 'अंधाधुन' और 'आर्टिकल 15' इस बात का सबूत थे कि आयुष्मान को अपने दर्शकों की नजर में आने के लिए 'स्लाइस ऑफ लाइफ' स्टोरी की जरूरत नहीं है।

एक मिडिल क्लास लड़का

आयुष्मान की अधिकांश फिल्मों में उन्होंने आमतौर पर मध्यवर्गीय लड़के की भूमिका निभाई है। अब भले ही वह दम लगा के हईशा, शुभ मंगल सावधान या फिर बधाई हो फिल्म हो। ज्यादातर किरदार जो वह निभाते हैं, वे इस तथ्य के कारण काफी हद तक भरोसेमंद होते हैं कि हम हर समय इन लोगों को अपने आस-पास देखते हैं और कनेक्ट कर पाते हैं।

बोलचाल की भाषा

हिंदी सिनेमा में एक समय ऐसा था जब भारी-भरकम डायलॉग्स होते थे। किस्मत से आयुष्मान उस समय से ताल्लुक रखते हैं, जहां बोलचाल की भाषा में ही संवाद पसंद किए जाते हैं। उनकी अधिकांश फिल्मों विक्की डोनर, बरेली की बर्फी, बधाई हो में आयुष्मान के बोलने का अंदाज और भाषा ऐसी है कि हर कोई इसे रिलेट करता है। उनकी भाषा उस जगह को बताती है, जहां का उनका किरदार है और इससे किरदार को रिलेट करने में मदद मिलती है।

ज्यादा कहानियां उत्तर भारत की


आयुष्मान खुराना की सभी फिल्में छोटे शहरों की नहीं है, लेकिन वे अक्सर यह इम्प्रेशन देते हैं कि जो अक्सर मेनस्ट्रीम हिंदी सिनेमा में नहीं देखी जाती हैं। उन्होंने दम लगा के हईशा (हरिद्वार) और बरेली की बर्फी (बरेली) किया है, लेकिन वे एक ही शहर के अपने किरदारों को एक दूसरे से काफी अलग बनाने में भी कामयाब रहे हैं। विक्की डोनर, शुभ मंगल सावधान और बधाई हो सब दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों में सेट थे और इन सभी फिल्मों में उन्हें अलग बताना आसान था।

Posted By: Sonal Sharma

fantasy cricket
fantasy cricket