anhit Mein Jaari: नुसरत भरूचा और अनुद सिंह ढाका ने फिल्म से जुड़ी स्टारकास्ट और रैपर रफ्तार के साथ दिल्ली में अपनी आगामी फिल्म जनहित में जारी का टाइटल सॉन्ग लॉन्च किया था। इस ग्रुवी, स्वैग से भरे टाइटल ट्रैक को रफ्तार और नकाश अज़ीज़ ने स्वरबद्ध किया है। यह गाना महिला सशक्तिकरण को सेलिब्रेट करता है। इस फन और कैची ट्यून को प्रीणी सिद्धांत माधव ने कंपोज किया है और राज शांडिल्य ने इसके हार्ड हिटिंग बोल लिखे हैं।

इस सॉन्ग लॉन्च इवेंट को और भी स्पेशल बनाया निर्माता विनोद भानुशाली और राज शांडिल्य के एक जबरदस्त अनाउंसमेंट ने , जिसके कारण वहां मौजूद सभी फैंस उत्साहित हो गए। जनहित में जारी जैसी महत्वपूर्ण फिल्म घर घर तक पहुंचनी चाहिए इसलिए निर्माताओं ने फिल्म के शुरुआती शुक्रवार को सौ रुपये की विशेष रियायती कीमत पर टिकटों की घोषणा की।

दोनों ही प्रोड्यूसर हाल के समय में पहली बार एक्टिवेट किए गए इस विचार बारे में सयुंकतरूप से कहते हैं कि," फिल्म हंसी और विचारोत्तेजक कहानी का एक आदर्श पैकेज है दर्शकों ने फिल्म के ट्रेलर को देख खूब प्यार बरसाया, और यह हमारी तरफ से उनके लिए एक छोटी सी भेंट है। यह एक ऐसी कहानी है जिसे हर घर तक पहुंचाने की जरूरत है और इस विचार में हमारा साथ देने के लिए हम अपने मल्टीप्लेक्स पार्टनर्स के आभारी हैं। हमें उम्मीद है कि हमारे दर्शक पहले दिन 100 रुपये जैसे कम कीमत में भी अपना मनोरंजन कर सकेंगे।

सॉन्ग रिलीज़ प्रमोशन को जारी रखते हुए फिल्म की टीम दिल्ली में रैपर रफ्तार के साथ डीएलएफ साइबर हब पहुंची। जहां पर उन्होंने फैंस के साथ इंटरेक्शन किया जिसे हाइट्स इवेंट्स द्वारा कॉर्डिनेट किया गया था, आप को बता दे कि किसी सॉन्ग लॉन्च में इतनी भरी तादाद में भीड़ देखी गई है। इस आयोजन में, नुसरत और अनुद ने उन महिलाओं की भी सराहना की, जिन्होंने मुख्य रूप से पुरुषों द्वारा नेतृत्व किए गए कार्यक्षेत्र में काम करके अपनी पहचान बनाई है - द्रोणाचार्य पुरस्कार और पद्म श्री सुनील दब्बास (कबड्डी), ऑल इंडिया माइनोरिटीज फ्रंट- लुबना आसिफ और एंटरप्रेन्योर नीरजा गोरावारा, गीता यादव और ममता यादव।

जय बसंतू सिंह द्वारा निर्देशित, जनहित में जारी, श्री राघव एंटरटेनमेंट एलएलपी के सहयोग से भानुशाली स्टूडियोज लिमिटेड और थिंक इंक पिक्चर्स प्रोडक्शन की फिल्म है जो ज़ी स्टूडियोज की रिलीज़ है और 10 जून को सिनेमाघरों में रिलीज़ होनेवाली है।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close