इस स्वतंत्रता दिवस को प्यार और देशभक्ति पर एक सॉन्ग ‘तेरी गलियों से’ के साथ मनाएं। भूषण कुमार द्वारा निर्मित, मीत ब्रदर्स और जुबिन नौटियाल के गायन के साथ, यह ट्रैक दर्शकों को एक बहादुर जवान और उसकी बैकस्टोरी की एक दिलचस्प कहानी के सफर पर ले जाता है। गुरमीत चौधरी और आरुषि निशंक अभिनीत, रश्मि विराग द्वारा लिखित और मीत ब्रदर्स द्वारा रचित यह सॉन्ग, बहादुर सैनिकों के परिवारों और प्रियजनों द्वारा महसूस किए गए दर्द और पीड़ा को दर्शाता है और फिर भी उनके द्वारा किए गए सभी बलिदानों के लिए गर्व की एक मजबूत भावना है।

गाने के बारे में बात करते हुए भूषण कुमार कहते हैं, “इस सॉन्ग ‘तेरी गलियों से’ को स्वतंत्रता सप्ताह के दौरान लॉन्च करना उचित लगा क्योंकि एक प्रेम गीत होने के अलावा यह दर्शकों को एक जवान की कहानी से भी रूबरू कराता है। मीत ब्रोस की मधुर रचना और जुबिन नौटियाल के भावपूर्ण स्वरों के साथ, हमें विश्वास है कि ट्रैक जनता को पसंद आएगा।”

मीत ब्रदर्स की जोड़ी कहती है, “ट्रैक में ओल्ड स्कूल म्यूजिक का इस्तेमाल किया गया है। यह सरल और फिर भी बहुत आकर्षक है। इस पर जुबिन नौटियाल और भूषण कुमार के साथ मिलकर बहुत अच्छा लगा और हमें उम्मीद है कि दर्शक इसका आनंद लेंगे।” जुबिन नौटियाल कहते हैं, “मुझे इस ट्रैक को अपनी आवाज देने में बहुत गर्व महसूस हुआ। इसके पीछे एक सुंदर और कठिन कहानी है।”

गुरमीत चौधरी कहते हैं, ”स्क्रीन पर एक जवान की भूमिका निभाना एक बड़ी जिम्मेदारी है क्योंकि वे असली हीरो हैं जो देश के लिए सबसे बड़ा बलिदान देते हैं। ‘तेरी गलियों से’ का हिस्सा बनना एक सम्मान की बात थी।”

निर्माता और कथक प्रतिपादक आरुषि निशंक, जो विभिन्न फीचर फिल्मों और वेब शो में अभिनय कर रही हैं, कहती हैं, “इस गाने को गुरमीत और पूरी टीम के साथ फिल्माने में मैंने बहुत अच्छा समय बिताया। मैं व्यक्तिगत रूप से सेना के जीवन के दर्द और बलिदान को समझती हूं क्योंकि मेरी बहन सेना में सर्व करती है।”

रश्मि विराग कहती हैं, “हमें उन सभी भावनाओं और विचारों को कैद करना था जो यह किरदार गाने में कर रहा है- हम रिजल्द से बहुत खुश हैं और पूरी टीम ने ट्रैक पर बहुत अच्छा काम किया है।” मीत ब्रदर्स द्वारा कंपोज्ड, जुबिन नौटियाल के गायन, रश्मि विराग के बोल, भूषण कुमार ने गुरमीत चौधरी अभिनीत ‘तेरी गलियों से’ प्रस्तुत किया और आरुषि निशंक अब टी-सीरीज के यूट्यूब चैनल पर आ चुका है।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close