Melbourne Indian Film Festival (IFFM) के उद्‍घाटन की रात एक तरफ जहां सिनेप्रेमियों ने राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म 'बुलबुल कैन सिंग' के जादू का दीदार किया तो अगली सुबह शहर में रहने वाले सभी भारतीय 'फेडरेशन स्क्वायर' पर जमा हुए। यहां भारतीय तिरंगा फहराया गया और ऐसा करने का सम्मान मिला करण जौहर को। बता दें कि ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न में यह सालाना सम्मान भारत की किसी प्रमुख हस्ती को दिया जाता है, जिसे स्वतंत्रता दिवस से पहले भारतीय तिरंगे को फहराने का मौका मिलता है।

Melbourne में करण जौहर को मिले इस शानदार अनुभव ने उन्हें काफी इमोशनल का दिया। इस बारे में करण ने कहा “IFFM वास्तव में एक ताकत है और इसे समझने की जरूरत है। पिछले दशकों में इसे काफी प्यार और प्रशंसा मिली है। मैं कई तरह के समारोहों में गया हूं, लेकिन मेलबर्न के इस फिल्म फेस्टिवल की बात ही अलग है। यहां रहने वाले सभी लोगों के दिल के करीब मैंने खुद को महसूस किया। समग्रता में अधिक शक्ति होती है। मेरे लिए यह एक असाधारण भावनात्मक क्षण रहा है। यहां आकर और हमारे राष्ट्रीय ध्वज को फहराने से मुझे अपने महान देश और उसके प्रति सभी लोगों के दिल में प्यार का एहसास हुआ। आज हम एक गौरवान्वित भारतीय हैं। भारत हम सभी के दिल की धड़कन है। यह सिर्फ एक देश नहीं बल्कि एक भावना है जो साहस, दृढ़ विश्वास और लचीलापन के साथ खड़ा है। वैश्विक क्षेत्र में भारत केवल एक भूमि नहीं, एक ताकत है। मैं भारतीय सिनेमा और देश के लिए सभी के प्रेम के प्रति आभारी हूं।''

बता दें कि Melbourne Indian Film Festival में कई भारतीय हस्तियां शामिल हुई थीं। जोया अख्तर की 'गली बॉय' को यहां बेस्ट फिल्म का अवॉर्ड भी मिला है। सुपरस्टार शाहरुख खान भी Melbourne Indian Film Festival में शामिल होने के लिए वहां पहुंचे थे।