रेलवे स्टेशन पर गाना गाते हुए Ranu Mandal का एक वीडियो वायरल हुआ था और उसके बाद वह रातोंरात इंटरनेट सिंगिंस सेंसेशन बन गई। हिमेश रेशमिया ने रानू को प्लेटफॉर्म दिया और गानों की रिकॉर्डिंग भी कर रही हैं। लेकिन अब खुलासा हुआ है कि रानू से अलग रह रही बेटी एलिजाबेथ सथी रॉय ने न्यूज एजेंसी आईएएनएस को बताया कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि उनकी मां रेलवे स्टेशन पर गाना गाती थीं और यह भी कहा कि हालांकि वह नियमित रूप से उनसे नहीं मिलती थी लेकिन वह उनके संपर्क में थी।

बुढ़ापे में अपनी मां को छोड़ने के लिए एलिजाबेथ की कथित तौर पर इंटरनेट पर खूब आलोचना की जा रही है। एलिजाबेश ने बताया कि वह अपनी मां की यथासंभव देखभाल करने की कोशिश करती हैं और कहा कि उनके 'खुद का संघर्ष' हैं। रानू मंडल के चार बच्चों में से एक एलिजाबेथ के मुताबिक वह एक छोटी सी दुकान चलाने वाली एक सिंगल मदर है और उसने अपनी मां से कई बार साथ रहने के लिए कहा लेकिन उसने मना कर दिया था।

वे कहती हैं, 'मुझे नहीं पता था कि मां रेलवे स्टेशन पर गाती थी क्योंकि मैं नियमित रूप से मां के पास नहीं जा सकती थी। मैं कुछ महीने पहले कोलकाता के धर्मताल गई थी और उन्हें बस स्टैंड पर बैठा हुआ देखा। मैंने उनसे तुरंत घर चलने को कहा और 200 रुपए दिए। मैंने उन्हें एक अंकल के जरिए 500 रुपए जब भी संभव हो भेजती थी। मैं एक तलाकशुदा हूं और बीरभूम जिले के एक छोटे से शहर सूरी में एक छोटी सी किराने की दुकान चलाती हूं। मैं अपने छोटे बच्चे की सिंगल मां हूं। इसलिए, मैं अपने संघर्षों से घिरी हुई हूं। फिर भी, मैं जितना हो सकता है, मां की देखभाल की कोशिश करती हूं। मैंने उसे कई बार हमारे साथ ले जाने की कोशिश की, लेकिन मेरी मां हमारे साथ नहीं रहना चाहती। इसके बावजूद, लोग मुझे दोषी ठहरा रहे हैं। जनता मेरे खिलाफ है। अब मैं किसके पास जाऊं?'

बता दें कि रानू का रेलवे स्टेशन पर लता मंगेश्कर का गाया 'एक प्यार का नगमा है' वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया जिसके बाद उन्हें गायक संगीतकार हिमेश रेशमिया द्वारा गायन के रियलिटी शो सुपरस्टार सिंगर पर आमंत्रित किया गया। 59 साल की रानू ने हिमेश की आने वाली फिल्म हप्पी हार्डी एंड हीर के लिए आदत.. और तेरी मेरी कहानी.. भी रिकॉर्ड की है।

एलिजाबेथ रॉय ने कहा कि वह रानू मंडल की पहली शादी से हुई बेटी है और उसका एक बड़ा भाई भी है। रानू के अपने दूसरे पति से दो बच्चे हैं। वे कहती हैं, 'मेरे पिता का कुछ साल पहले निधन हो गया था। उनके दूसरे पति से मां के बच्चे शायद अब मुंबई में रहते हैं, हालांकि मैं पक्का नहीं कर सकती। उनका दूसरा पति अभी भी जीवित है। मैं उनके पहले पति की बेटी हूं, और मेरा एक बड़ा भाई, एक सौतेला भाई और सौतेली बहन है। हम एक-दूसरे के संपर्क में नहीं हैं। दूसरे बच्चे मां की जिम्मेदारी क्यों नहीं लेते? क्यों कोई उन्हें दोष नहीं दे रहा है? मैं चाहता हूं कि वे आगे आएं और मेरे साथ मां का ख्याल रखें।'

मिलने नहीं देते मां से

एलिजाबेथ ने रानाघाट के अमरा शोबाई शोइटान क्लब के सदस्यों को भी दोषी ठहराया है, जो उसकी मां की देखरेख करते हैं, उसे उनसे संपर्क नहीं करते और उन पर उसे धमकाने का भी आरोप लगाते हैं।

वे कहती हैं कि 'ऐसा लगता है जैसे कि क्लब के सदस्य अतीन्द्र चक्रवर्ती और तपन दास मेरी मां के अपने बेटे हैं। उन्होंने और क्लब के अन्य सदस्यों ने मेरी मां से संपर्क करने की कोशिश करने पर मेरा पैर तोड़ने और मुझे बाहर फेंकने की धमकी दी है। वे मुझे फोन पर भी मां से बात नहीं करने देते। इसके अलावा, वे मेरे खिलाफ मां का ब्रेनवॉश कर रहे हैं। मैं असहाय महसूस करता हूं। तपन और अतींद्र प्रसिद्धि चाहते हैं, इसलिए उन्होंने मुझे दरकिनार कर दिया।'

वह आखिरी में कहती हैं, 'हालांकि हर कोई मुझ पर आरोप लगा रहा है, फिर भी मैं मां को सपोर्ट करना जारी रखूंगी। मैं मां से सूरी आने और मेरे साथ रहने के लिए कहूंगी, लेकिन मैं उसे कभी मजबूर नहीं करूंगी। वह जीवन में बहुत सह चुकी है और आखिरकार अपनी ईश्वर की दी इस आवाज के लिए उन्हें पहचान मिल रही है। मुझे उनकी बेटी होने पर गर्व है।'

Posted By: Sonal Sharma

  • Font Size
  • Close