अनुराग अग्रवाल, चंडीगढ़ Sushant Singh Rajput case । सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमयी मौत के दो महीने बाद एक कथित पत्र वायरल हो रहा है। दुख में डूबे परिवार की तरफ से लिखे 9 पृष्ठों के इस पत्र में कुछ बातें सीधी तो कुछ इशारे में कही गई हैं। शुरुआत फिराक जलालपुरी के शेर से हुई है। लिखा है..

"तू इधर-उधर की न बात कर, ये बता कि काफिला क्यों लुटा, मुझे रहजनों से गिला नहीं, तिरी रहबरी का सवाल है।"

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत गत 14 जून को मुंबई के बांद्रा स्थित अपने घर में मृत पाए गए थे। तब से रोज नए नए खुलासे हो रहे हैं। अब सुशांत की बहन मीतू सिंह की ओर से जारी बताए जा रहे इस पत्र ने कई चीजें स्पष्ट कर दी हैं। पत्र में रिया चक्रवर्ती और मुंबई पुलिस पर भी गंभीर आरोप हैं तो यह दर्द भी कि चार बहनों और बुजुर्ग पिता को सबक सिखाने की धमकियां दी जा रही हैं।

सुशांत की मां का असमय निधन

परिवार को पहला झटका तब लगा जब सुशांत की मां का अचानक निधन हो गया। सुशांत के सिनेमा में हीरो बनने की बात उसी दिन चली। अगले आठ-दस साल में वह हुआ, जो लोग सपनों में देखते हैं। लेकिन अब जो हुआ है वो दुश्मन के साथ भी ना हो। एक नामी आदमी को ठगों-बदमाशों लालचियों का झुंड घेर लेता है। कहा जा रहा है उनकी (सुशांत के पिता की) लापरवाही से सुशांत मरा। इतने से मन नहीं भरा तो मानसिक बीमारी की कहानी चला दी।

तमाशा देखने वालों को जवाब

पत्र में कहा गया है कि तमाशा करने वाले और तमाशा देखने वाले यह न भूलें कि वे भी यहीं हैं। क्या गारंटी है कि कल उनके साथ ऐसा नहीं होगा? हम देश को उधर लेकर क्यों जा रहे हैं जहां जागीरदार अपने गुर्गों से मेहनतकशों को मरा देते हैं।

हनी ट्रैप गैंग बदनाम करने वापस लौटा

परिवार के सब्र का बांध तब टूटा, जब महीने भर के भीतर ही महंगे वकील और नामी पीआर एजेंसी से लैस "हनी ट्रैप" गैंग डंके की चोट पर वापस लौटता है। सुशांत को लूटने-मारने से तसल्ली नहीं हुई। परिवार का भय सही साबित हो जाता है। अंग्रेजों के दूसरे वारिस मिलते हैं। दिव्यचक्षु से देखकर बता देते हैं कि ये तो जी ऐसे हुआ है। व्यावहारिक आदमी हैं। पीड़ित से कुछ मिलना नहीं, सो मुलजिम की तरफ हो लेते हैं।

पत्र में उमड़ी परिवार की भावुकता

कथित पत्र में लिखा है, कुछ साल पहले न कोई सुशांत को जानता था, न उसके परिवार को। आज उसकी हत्या को लेकर करोड़ों लोग व्यथित हैं। नाम चमकाने के लिए कई फर्जी दोस्त-भाई-मामा बन अपनी-अपनी हांक रहे हैं। ऐसे में बताना जरूरी हो गया है कि आखिर सुशांत का परिवार होने का मतलब क्या है? सुशांत के माता-पिता कमाकर खाने वाले लोग थे। हंसते-खेलते पांच बच्चे थे। उनकी परवरिश ठीक हो, इसलिए गांव से शहर आ गए। बच्चों के सपनों पर पहरा नहीं लगाया। पिता के हवाले से बताया गया है कि पहली बेटी में जादू था। कोई आया और चुपके से उसे परियों के देश ले गया। दूसरी बेटी राष्ट्रीय टीम के लिए क्रिकेट खेली। तीसरी ने कानून की पढ़ाई की तो चौथी ने फैशन डिजाइन में डिप्लोमा किया। सबसे छोटा सुशांत था। ऐसा, जिसके लिए सारी माएं मन्नत मांगती हैं।

पागल कहते हैं ये लोग

पत्र में व्यथित पिता केके सिंह का आरोप है कि अंग्रेजों के एक और बड़े वारिस तो जलियांवाला-फेम जनरल डायर को भी मात दे देते हैं। सुशांत के परिवार को कहते हैं कि तुम्हारा बच्चा पागल था, सुसाइड कर सकता था। सवाल सुशांत की निर्मम हत्या का है। सवाल ये भी है कि क्या वे लोग न्याय की भी हत्या कर देंगे?

Posted By: Sandeep Chourey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020